कोरोना का कहर: आज से फरीदाबाद-दिल्ली बॉर्डर सील, डॉक्टर-पुलिस और बैंककर्मियों की भी नो-एंट्री

दिल्ली से सटे फरीदाबाद बॉर्डर पर लॉकडाउन में और सख्ती कर दी गई है। अब फरीदाबाद से आने-जाने वाले आम लोगों के साथ-साथ सरकारी कर्मचारियों पर भी रोक लगा दी गई है। डॉक्टर, बैंककर्मियों को भी छूट नहीं दी गई है। यह ऑर्डर 3 मई तक जारी रहेगा।

फोटो: सोशल मीडिया 
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

देश में कोरोना वायरस का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, देश में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 31332 हो गई है। अब तक 1007 मौतें हुई हैं। इसी बीच हरियाणा सरकार ने एक बड़ा कदम उठाया है, हरियाणा सरकार को लगता है कि दिल्ली आने जाने वालों से उसे खतरा है इसलिए उसने दिल्ली से सटे फरीदाबाद के सारे बॉर्डर आज से सील करने के आदेश दिए हैं, जिसके बाद आज दोपहर 12 बजे तक ही एंट्री की जा सकती है।

सरकार की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि आज दोपहर 12 बजे के बाद दिल्ली में काम करने वाले डॉक्टर, बैंक कर्मी और पुलिस वाले भी फरीदाबाद में एंट्री नहीं कर सकेंगे, सिर्फ केंद्र सरकार के जारी पास से ही सील बॉर्डर में एंट्री मिलेगी, हालांकि जरूरी सामानों की आपूर्ति और बैंकिंग सेवाओं में लगी गाड़ियों को इस आदेश से छूट रहेगी। सरकारी आदेश के मुताबिक, यह नियम 3 मई तक लागू रहेगा।


दिल्ली से किसी प्रकार की आवाजाही पर रोक लगाने के लिए फरीदाबाद बॉर्डर पर पुलिस के साथ रैपिड एक्शन फोर्स (आरपीएएफ) की तैनाती की गई है। दिल्ली से आने वालों की पुख्ता पड़ताल के बाद शहर में एंट्री दी जा रही है। आवश्यक सेवाओं को छोड़कर किसी को अनुमति नहीं दी गई। उधर दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर पर वाहनों की लंबी कतारें दिख रही है। बॉर्डर पर पुलिस कर्मी लोगों के 'पास' और 'पहचान पत्र' की जांच कर रहे हैं।

बता दें, बीते दिनों हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा था कि दिल्ली की वजह से हरियाणा में कोरोना के मरीज बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा था कि दिल्ली में नौकरी करने वाले हरियाणा के लोग पास बनवाकर रोजाना वहां से आते हैं। ऐसे लोग कोरोना कैरियर बने हुए हैं।

इसे भी पढ़ें: कोरोना संकट पर सियासत! BJP नेता ने कहा- दिल्ली से हरियाणा में फैल रहा कोरोना, कर्मचारियों को लेकर कही बड़ी बात

देश में कोरोना का कहर जारी, संक्रमितों की संख्या 31 हजार के पार, अब तक 1007 लोगों की गई जान

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia