उत्तराखंड CM तीरथ रावत का बेतुका बयान, कहा- मां गंगा की कृपा से कुंभ में नहीं फैलेगा कोरोना, मरकज से तुलना करना गलत

सीएम तीरथ रावत के मुताबिक पिछले साल दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज से कोरोना बंद कमरे से फैला था, क्योंकि वहां सभी लोग एक कमरे में बंद थे। वहीं उनका कहना है कि हरिद्वार में कुंभ नीलकंठ और देवप्रयाग तक खुले वातावरण में है इसलिए यहां से कोरोना नहीं फैलेगा।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

अपने बयानों को लेकर विवादों में रहने वाले उत्तराखंड के सीएम तीरथ सिंह रावत का विवादों भरा बयान देना का सिलसिला जारी है। महिलाओं के पहनावे पर टिप्पणी, 20 बच्चे पैदा करने वाले बयान के बाद अब सीएम ने हरिद्वार में चल रहे कुंभ और कोरोना को लेकर बेतुका बयान दिया है। TSR पार्ट 2 यानी तीरथ सिंह रावत ने कहा है कि कुंभ में मां गंगा की कृपा से कोरोना नहीं फैलेगा। इतना ही नहीं उन्होंने कहा है कि कुंभ और मरकज की तुलना करना गलत है।

इसे भी पढ़ें- हरिद्वार कुंभ: कोरोना नियमों को ताख पर रखकर लाखों श्रद्धालुओं ने गंगा में लगाई डुबकी, देखें वीडियो

सीएम TSR के मुताबिक पिछले साल दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज से कोरोना बंद कमरे से फैला था, क्योंकि वहां सभी लोग एक कमरे में बंद थे। वहीं उनका कहना है कि हरिद्वार में कुंभ नीलकंठ और देवप्रयाग तक खुले वातावरण में है इसलिए यहां से कोरोना नहीं फैलेगा। इसके अलावा कुंभ में उमड़ी लाखों की भीड़ और कोरोना गाइडलाइन के उल्लंघन को लेकर उठ रहे सवालों पर रावत ने कहा, 'हरिद्वार में 16 से ज्यादा घाट हैं। इसकी तुलना मरकज से नहीं की जा सकती। बता दें कि कुंभ में बुधवार को तीसरा शाही स्नान चल रहा है। इससे पहले सोमवार को हुए शाही स्नान के दौरान कोरोना गाइडलाइंस का पालन नहीं हुआ था।

एक रिपोर्ट की मानें तो सोमवार के शाही स्नान में 35 लाख से ज्यादा लोग शामिल हुए थे। इनमें से 18,169 लोगों की जांच हुई, जिनमें 102 संक्रमित मिले। प्रशासन का दावा है कि कुंभ क्षेत्र में उन्हीं श्रद्धालुओं को एंट्री दी जा रही है, जिनके पास RT-PCR निगेटिव रिपोर्ट है। लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही बयां कर रही है। इधर, सोशल मीडिया के जरिए हर कोई तस्वीरें शेयर कर सरकार से सवाल कर रहा है कि बीते साल दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में जुटी जमात पर सरकार से लेकर जनता तक ने निशाना साधा था। उन्हें सुपर स्प्रेडर कहा गया था। जबकि कुंभ में लाखों लोग जुटे हैं जिसके बारे में ज्यादा बात भी नहीं हो रही है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia