बिहार के क्वारंटाइन सेंटर की बदहाली! प्रवासी मजदूरों की सब्जी में मिला जहरीला बिच्छू, प्रशासन के फूले हाथ-पांव

बताया जा रहा है कि क्वारंटाइन सेंटर में रह रहे मनोज यादव नाम के एक शख्स ने सब्जी से भरे अपने कटोरे में देखा कि बिच्छू मरा हुआ है। इसके बाद हड़कंप मच गया। जानकारी के मुताबिक बिच्छू गिरा खाना खाने से सेंटर के कई मजदूर बीमार पड़ गए। इसके बाद अफरा-तफरी मच गई।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

Navjivan

देशभर में लगातार बढ़ रहे कोरोना के मामले को रोकने के लिए हर स्तर पर कोशिश जारी है। वहीं हर राज्य में कोरोना संदिग्ध लोगों से ये वायरस ना फैले इसे लेकर भी कई जगहों पर क्वारंटाइन सेंटर बनाए गए हैं। लेकिन इन्ही क्वारंटाइन सेंटर से आए दिन हैरान करने वाली खबरें सामने आ रही है। ऐसा ही एक मामला बिहार के दरभंगा जिले के केवटी प्रखंड के बद्री यादव उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालय कोयला क्वारंटाइन सेंटर से सामने आई है। जहां प्रवासी मजदूरों को परोसे गए खाने में जहरील बिच्छू मिला।

इसे भी पढ़ें-सिब्बल बोले- 12 करोड़ हुए बेरोजगार, 28 लाख लोगों को राहत देने का दावा कर रही मोदी सरकार, बाकी को क्या मिला?

बताया जा रहा है कि क्वारंटाइन सेंटर में रह रहे मनोज यादव ने सब्जी से भरे अपने कटोरे में देखा कि बिच्छू मरा हुआ है। इसके बाद हड़कंप मच गया। जानकारी के मुताबिक बिच्छू गिरा खाना खाने से सेंटर के कई मजदूर बीमार पड़ गए। इसके बाद अफरा-तफरी मच गई। सेंटर में रह रहे लोगों ने बताया कि जिस वक्त मनोज ने बिच्छू देखा था, उस वक्‍त एक साथ 10 लोग खाना खा रहे थे। बिच्छू सब्जी में मरा हुआ था, जिसे देखकर सभी लोगों के होश उड़ गए। बिच्छू गिरा खाना देखकर सेंटर के करीब 45 प्रवासियों ने भोजन का बहिष्कार कर दिया।

दरअसल, सभी दोपहर बाद 3 बजे तक भूखे थे, जिन लोगों ने भोजन कर लिया था, उनमें से दीपक पासवान, प्रकाश यादव, राजेश यादव, प्रमोद पासवान आदि को उल्टी होने लगी। तबीयत बिगड़ते देख हेडमास्टर राम यादव को सूचना दी गई. उन्होंने घटना की जानकारी सीओ सह नोडल अधिकारी अजीत कुमार झा को दी। सूचना मिलते ही सीओ एमओआईसी डॉ निर्मल कुमार लाल के संग सेंटर पहुंचे और घटना के बाबत जानकारी ली। डॉ लाल ने बीमारों की जांच पड़ताल के बाद दवाइयां दीं, जिसके बाद उनकी हालत में सुधार हुआ।

ऐसा पहली बार नहीं है प्रवासी मजदूरों के लिए बने क्वारंटाइन सेंटर से इस तरह की कई खबरें सामने आई है। कई क्वारंटाइन सेंटर से तो सांप निकलने की भी कई खबरें सामने आई थी। कई जगह तो प्रवासी मजदूरों को जमीन पर सुलाया जा रहा है ना उनके पास खाने को समय पर खाना मिल रहा है ना ही सोने के लिए गद्दे। लेकिन हैरानी की बात तो ये है कि कई बार शिकायत के बाद भी सरकार के कानों पर जूं तक नहीं रेंगती।

इसे भी पढ़ें- PM ने फिर थपथपाई अपनी पीठ, बोले- भारत में दुनिया से कम कोरोना, बढ़ते केस पर कैसे पाएंगे काबू, ये नहीं बताया

लोकप्रिय
next