दिल्ली हिंसा: BJP की सहयोगी अकाली दल का मोदी सरकार पर हमला, बादल बोले- देश में न सेकुलरिज्म है, न ही सोशलिज्म

बीजेपी की सहयोगी अकाली दल ने दिल्ली हिंसा को लेकर मोदी सरकार को घेरा है। उन्होंने कहा कि देश में सेकुलरिज्म, सोशलिज्म और डेमोक्रेसी नजर नहीं आ रही है। क्योंकि डेमोक्रेसी भी दो स्तर पर नजर आती है एक तो लोकसभा चुनाव और दूसरा राज्य के चुनाव में।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

दिल्ली हिंसा को लेकर बीजेपी के सहयोगी शिरोमणि अकाली दल ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है। अकाली दल के नेता और पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह ने कहा कि देश में सेकुलरिज्म, सोशलिज्म और डेमोक्रेसी नजर नहीं आ रही है। क्योंकि डेमोक्रेसी भी दो स्तर पर नजर आती है एक तो लोकसभा चुनाव और दूसरा राज्य के चुनाव में।

प्रकाश सिंह बादल ने आगे कहा कि हमें अमन-शांति के साथ रहना बहुत आवश्यक है। हमारे देश के विधान में तीन चीजें लिखी हैं, जो सेकुलरिज्म, सोशलिज्म और डेमोक्रेसी। यहां ना तो सेकुलरिज्म है, ना ही सोशलिज्म है। अमीर, अमीर होता ही जा रहा है गरीब, गरीब होता ही जा रहा है।

इससे पहले पूर्व प्रधानमंत्री इंद्रकुमार गुजराल के बेटे और अकाली दल के नेता नरेश गुजराल ने पत्र में दिल्ली पुलिस की उदासीनता पर सवाल उठाए थे। उन्होंने गृह मंत्री अमित शाह को खत लिखा था। उन्होंने कहा था कि हर बार अल्पसंख्यकों को ही हिंसा में निशाना बनाया जाना दुर्भाग्यपूर्ण है।

उन्होंने आगे कहा था, “पुलिस ने बुधवार रात पूर्वोत्तर दिल्ली के मौजपुर इलाके में एक घर में फंसे 16 मुसलमानों की सहायता के लिए उनके अनुरोध पर कोई कार्रवाई नहीं की, जबकि एक भीड़ उन्हें नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर रही थी।” उन्होंने कहा था कि मैंने पुलिस को यह भी बताया कि मैं एक सांसद हूं फिर भी पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। उन्होंने खत में लिखा था, “मैंने फोन पर वहां की अरजेंसी की जानकारी दी और ऑपरेटर को बताया कि मैं संसद सदस्य हूं। 11:43 बजे, मुझे दिल्ली पुलिस से पुष्टि मिली कि मेरी शिकायत संख्या 946603 के साथ प्राप्त हुई। हालांकि मुझे निराशा हुई जब मेरी शिकायत पर कोई कार्रवाई हुई और उन 16 व्यक्तियों को दिल्ली पुलिस से कोई सहायता नहीं मिली।”

बता दें कि दिल्ली में हुई हिंसा की जांच के लिए स्पेशल इनवेस्टीगेशन टीम (एसआईटी) गठित की गई है। यह एसआईटी क्राइम ब्रांच की होगी। मरने वालों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। मरने वालों की संख्या 42 तक पहुंच गई है।

लोकप्रिय