संसद में 'तवांग झड़प' पर संग्राम, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह लोकसभा और राज्यसभा में देंगे बयान

भारत और चीन की सेना के बीच सीमा पर हुई झड़प, उससे उपजे हालात और उसके बाद के घटनाक्रम को लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह मंगलवार को दोपहर 12 बजे लोक सभा में और दोपहर बाद 2 बजे राज्य सभा में बयान दे सकते हैं।

फोटो: Gettty Images
फोटो: Gettty Images
user

नवजीवन डेस्क

भारत और चीन की सेना के बीच अरुणाचल प्रदेश के तवांग सेक्टर में हुई झड़प के मसले पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह मंगलवार को संसद के दोनों सदनों में बयान दे सकते हैं। बताया जा रहा है कि भारत और चीन की सेना के बीच सीमा पर हुई झड़प, उससे उपजे हालात और उसके बाद के घटनाक्रम को लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह मंगलवार को दोपहर 12 बजे लोक सभा में और दोपहर बाद 2 बजे राज्य सभा में बयान दे सकते हैं।

बता दें कि, इससे पहले राजनाथ सिंह ने अपने आवास पर इस झड़प को लेकर एक उच्चस्तरीय बैठक भी बुलाई थी। इस बैठक में राजनाथ सिंह को सीमा के हालात की जानकारी दी गई। इस जानकारी को रक्षा मंत्री सदन के जरिए देश के साथ साझा करेंगे।

इस मामले में विपक्ष सरकार पर लगातार हमला बोल रही है। कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने ने कहा था ‘फिर से हमारे भारतीय सेना के जवानों को चीनियों ने भड़काया है। हमारे जवानों ने डटकर मुकाबला किया और उनमें से कुछ घायल भी हुए हैं। हम राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर देश के साथ हैं और इसका राजनीतिकरण नहीं करना चाहेंगे। उन्होंने आगे लिखा, ‘लेकिन मोदी सरकार अप्रैल 2020 से एलएसी के पास सभी बिंदुओं पर चीनी अतिक्रमण और निर्माण के बारे में ईमानदार होनी चाहिए। सर

आईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने तल्ख टिप्पणी की थी। उन्होंने सरकार को घेरते हुए कहा था कि अरुणाचल प्रदेश से आ रही खबरें चिंताजनक हैं। भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच एक बड़ी झड़प हुई और सरकार ने देश को कई दिनों तक अंधेरे में रखा। जब संसद का सत्र चल रहा था तब इस बारे में क्यों नहीं बताया गया? घटना का ब्योरा अधूरा है।


गौरतलब है कि भारत के अरुणाचल प्रदेश में एक बार फिर चीनी सैनिकों ने घुसने की कोशिश की है। हालांकि भारतीय सैनिकों ने उनको दृढता से रोक दिया, जिससे दोनों पक्षों के बीच भीषण झड़प हो गई। इस झड़प में कई दोनों तरफ के कई जवान घायल हुए हैं। हालांकि भारतीय जवानों के पुरजोर विरोध के कारण चीनी सैनिकों को पीछे हटना पड़ा है।

रिपोर्ट के अनुसार 9 दिसंबर 2022 को, चीनी सैनिक अरुणाचल प्रदेश के तवांग सेक्टर में एलएसी के पार पहुंच गए, जिसका भारतीय सैनिकों ने दृढ़ता से विरोध किया। इस आमने-सामने की लड़ाई में दोनों पक्षों के कुछ जवानों को मामूली चोटें आईं। दोनों पक्ष तुरंत क्षेत्र से हट गए। घटना के बाद क्षेत्र में भारत के कमांडर ने शांति बहाली के लिए प्रक्रिया के अनुसार इस मुद्दे पर चर्चा करने के लिए अपने चीनी समकक्ष के साथ एक फ्लैग मीटिंग की।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;