मध्यप्रदेश के लोगों से पूर्व सीएम कमलनाथ की अपील, लोकतंत्र और संविधान की मजबूती के लिए हों एकजुट

मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम कमलनाथ ने कांग्रेस सरकार के कार्यकाल की चर्चा करते हुए कहा कि प्रदेश की एक नई पहचान और प्रोफाइल बने इसके लिए एक नई शुरूआत की गई थी। प्रदेश की पहचान बन चुके माफिया और मिलावटखोरों के खिलाफ सरकार ने अल्प समय में ही सख्त अभियान चलाया।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस की मध्य प्रदेश इकाई के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि लोकतंत्र और संविधान को मजबूत करने के लिये आज सभी लोगों को एकजुट होना होगा। उन्होंने कहा कि आज जरूरत इस बात की है कि आमजन सच्चाई को पहचानें और सच्चाई का साथ देने का संकल्प लें।

स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर सोशल मीडिया के जरिए प्रदेशवासियों को संबोधित करते हुए कमलनाथ ने कांग्रेस सरकार के कार्यकाल की चर्चा करते हुए कहा, "17 दिसंबर 2018 को शपथ और 20 मार्च 2020 को इस्तीफा देने के बीच मुख्यमंत्री के रूप में सिर्फ 15 माह ही काम करने का समय मिला। इतने अल्प समय में उनकी सरकार ने बड़े फैसले लिए, इसमें सबसे महत्वपूर्ण प्रदेश के 27 लाख किसानों का कर्ज पहले और दूसरे चरण में माफ किया। तीसरे चरण में 1 जून 2020 से लगभग 5 लाख किसानों की कर्ज माफी का प्रावधान किया गया था।"

कांग्रेस की तत्कालीन प्रदेश सरकार द्वारा युवाओं को रोजगार मुहैया कराने के लिए किए गए प्रयासों का ब्यौरा देते हुए कमलनाथ ने कहा, "प्रदेश के नौजवानों का भविष्य सुरक्षित रखने के लिए उद्योग जगत का निवेश के लिये विश्वास बनाने का प्रयास किया। मेरा मानना है कि निवेश तभी प्रोत्साहित होता है जब विश्वास का माहौल हो । निवेश बढ़ने से नौजवानों को रोजगार मिलता है और आर्थिक गतिविधियां बढ़ती है।"

कमलनाथ ने आगे कहा कि मध्य प्रदेश की एक नई पहचान और प्रोफाइल बने इसके लिए एक नई शुरूआत की गई थी। प्रदेश की पहचान बन चुके माफिया और मिलावटखोरों के खिलाफ मेरी सरकार ने सख्ती से अभियान चलाया। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि आम उपभोक्ताओं को सौ रुपये में सौ यूनिट बिजली, किसानों को सिंचाई पंप लगाने और बिजली कनेक्शन की राशि कम करने, कन्या विवाह की राशि बढाकर 51 हजार रुपए करने और बुजुर्गों की पेंशन राशि 300 रुपये से बढ़ाकर 600 रुपये करने का निर्णय लिया, जिसका लोगों को लाभ भी मिला है।

राज्य में गौ संरक्षण के लिए किए गए प्रयासों का ब्यौरा देते हुए पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, "गौमाता के संरक्षण और सुरक्षा के लिए पूरे प्रदेश में गौशालाओं के निर्माण की शुरूआत की गई। देश भर में सबसे ज्यादा गौशाला हमारे प्रदेश में बनी हैं। कर्मचारियों के हित में महंगाई भत्ता बढ़ाने और स्वास्थ्य बीमा जैसे निर्णय लिए गए।" पूर्व मुख्यमंत्री ने कोरोना योद्धाओं द्वारा किए जा रहे कार्य की प्रशंसा की और उन्हें सेल्यूट भी किया।

लोकप्रिय
next