1 जनवरी से चीन समेत इन देशों से आने वाले यात्रियों के लिए RT-PCR टेस्ट जरूरी, कोरोना संकट के बीच सरकार का बड़ा फैसला

देश पर मंडरा रहे कोरोना संकट के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने चीन, हांगकांग, जापान, दक्षिण कोरिया, सिंगापुर और थाईलैंड के यात्रियों के लिए प्रस्थान से पहले आरटी-पीसीआर परीक्षण से गुजरना अनिवार्य कर दिया है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

चीन में कोरोना वायरस का कहर देखने को मिल रहा है। कोरोना से हालात बेकाबू हो चुके हैं। अस्पतालों में मरीजों की भारी भीड़ है। लोगों को इलाज और दवाएं नहीं मिल पा रही हैं। श्मशानों में अंतिम संस्कार के लिए लंबा इंतजार करना पड़ रहा है। बताया जा रहा है कि श्मशानों में करीब एक हफ्ते की वेटिंग है। चीन में ऐसे हालात को देखकर दुनिया डरी हुई है। इस बीच भारत सरकार अलर्ट पर है।

देश पर मंडरा रहे कोरोना संकट के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने चीन, हांगकांग, जापान, दक्षिण कोरिया, सिंगापुर और थाईलैंड के यात्रियों के लिए प्रस्थान से पहले आरटी-पीसीआर परीक्षण से गुजरना अनिवार्य कर दिया है।

मंत्रालय ने गुरुवार को एक बयान में कहा, "चीन, हांगकांग, जापान, दक्षिण कोरिया, सिंगापुर और थाईलैंड से भारत की यात्रा करने वाले अंतर्राष्ट्रीय यात्रियों को अनिवार्य रूप से इन देशों/गंतव्यों से प्रस्थान करने से पहले आरटी-पीसीआर परीक्षण से गुजरना होगा और कोविड नकारात्मक आरटीपीसीआर परीक्षण रिपोर्ट को 1 जनवरी, 2023 से एयर सुविधा पोर्टल पर अपलोड करना होगा।"

बयान में कहा गया है कि उनकी भारत यात्रा से पहले 72 घंटे के भीतर परीक्षण किया जाना चाहिए। इस बीच, भारत में पिछले 24 घंटों में गुरुवार को कुल 268 नए कोविड मामले दर्ज किए गए। देश में सक्रिय मामलों की संख्या 3,552 है, जो देश के कुल पॉजिटिव मामलों का 0.01 प्रतिशत है। साप्ताहिक और दैनिक पॉजिटिविटी रेट क्रमश: 0.17 प्रतिशत और 0.11 प्रतिशत रही।


दूसरी ओर यूरो न्यूज के मुताबिक, चीन के अस्पतालों में सामान्य से पांच से छह गुना ज्यादा मरीज हैं, जिनमें ज्यादातर बुजुर्ग हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञ लाखों दैनिक संक्रमणों का अनुमान लगा रहे हैं और 2023 में चीन में कम से कम एक मिलियन कोविड मौतों की भविष्यवाणी कर रहे हैं।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;