गुजरात सरकार ने अस्पतालों में लगवा दिए लोकल बने नकली वेंटिलेटर, उठे सवाल, सीएम रुपाणी के मित्र की है कंपनी

गुजरात की बीजेपी सरकार ने अस्पतालों में नकली वेंटिलेटर लगवा दिए, क्योंकि यह कथित वेंटिलेटर गुजरात के सीएम विजय रूपाणी के करीबी की कंपनी ने बनाए थे। इस तरह एक बार फिर विकास के गुजरात मॉडल की पोल खुली है, बल्कि इस बार तो आपराधिक तौर पर मरीजों की जान से खिलवाड़ किया गया है।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी जब से कोरोना का कहर शुरु हुआ है अपने आशियाने से बाहर नहीं निकले हैं। वे पिछले 4 अप्रैल को को बाहर आए थे और उन्होंने अहमदाबाद के सिविल अस्पताल में गुजरात में ही निर्मित वेंटिलेटर का उद्घाटन किया था। लेकिन अब साफ हो गया है कि विजय रुपाणी के राजकोट के मित्र द्वारा दिया गया यह वेंटिलेटर न सिर्फ नकली है, और इससे मरीजों की जान को खतरा हो सकता है। यह खुलासा मशीनों को अस्पताल में लगाए जाने के 15 दिन बाद हुआ है।

अहमदाबाद मिरर की एक खबर के मुताबिक गुजरात के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा अंबु-बैग को वेंटिलेटर बताकर अस्पताल में लगाए जाने से साफ है कि गुजरात सरकार इन दिनों किस तरह चल रही है। अहमदाबाद मिरर इस बारे में लगातार खबरें प्रकाशित रहा है कि कैसे विजय रुपाणी और अंजलि रुपाणी राजकोट स्थित इस कंपनी को प्रोमोट कर रहे हैं। इस अधिकारी ने बताया कि विजय रुपाणी सिर्फ राजकोट के अधिकारियों से ही घिरे रहते हैं। अधिकारी ने कहा कि हाल ही में अहमदाबाद के कलेक्टर को बिना सूचना के हटाकर दिल्ली में एक अनजान से पद पर भेज दिया गया।

तस्वीर: अहमदाबाद मिरर से साभार
तस्वीर: अहमदाबाद मिरर से साभार

अधिकारी के मुताबिक, “विजय रुपाणी के द्वारा अंबु बैग को वेंटिलेटर के तौर पर सेटअप करवाना यह सीधे तौर पर दिखा रहा है कि मरीजों की जिंदगी से खिलवाड़ किया गया। यह एक आपराधिक कृत्य है।”

बता दें कि 4 अप्रैल को विजय रुपाणी ने वेंटिलेटर उद्घाटन करते समय कहा था कि पूरी दुनिया कोविड 19 जैसी महामारी का सामना कर रही है और मामलों के बहुत तेज़ी से बढ़ने के चलते वेंटिलेटर कमी हो रही है। ऐसे समय में सस्ते वेंटिलेटर बनाकर गुजरात इस महामारी से लड़ने वाले दुनिया के तमाम देशों की कतार में सबसे आगे खड़ा हो जाएगा। लेकिन अब इस नकली वेंटिलेटर का खुलासा होने के बाद इस मामले ने एक बार फिर पूरे गुजरात को शर्मसार कर दिया है। खबरों के मुताबिक, इस मामले के खुलासा के बाद हाईकमान की भौंहे तन गई हैं।

मिरर के मुताबिक, जब इस पूरे मामले को लेकर सीएम विजय रुपाणी से बातचीत की कोशिश की गई लेकिन वो बातचीत के लिए उपलब्ध नहीं हो पाए। जिसके बाद उनके करीबी नौकरशाह से बातचीत हुई। करीबी नौकरशाह ने इस मामले में विजय रुपाणी बचाते हुए नजर हुए नजर आए। उन्होंने कहा कि सीएम विजय रुपाणी ने कभी भी इसे वेंटिलेटर नहीं कहा था। जबकि राज्य सरकार द्वारा जारी प्रेस नोट में स्पष्ट रूप से मशीन को वेंटिलेटर के रूप में जिक्र किया गया है। इस प्रेस नोट में कहा गया था कि राजकोट स्थित स्थानीय उद्योगपति पराक्रम सिंह जडेजा और ज्योति सीएनसी की उनकी टीम ने गुजरात के मेक इन इंडिया अभियान में बड़ा सहयोग दिया है। बाद में रूपानी और पटेल ने जडेजा को इस उपलब्धि के लिए उन्हें बधाई दी थी।

वहीं गुजरात सरकार जिस वेंटिलटर को सस्ता बताकर कोरोना वायरस से जंग लड़ने में सबसे उपयोगी हथियार बताया था अब उसी वेंटिलेटर के निर्माता पराक्रम सिंह जडेजा ने स्वीकार किया है कि यह फुल फ्लेजेड वेंटिलेटर नहीं है। साथ ही उन्होंने दावा किया कि इसकी जानकारी गुजरात सरकार को पहले ही दे दिया गया था।

वहीं गुजरात कांग्रेस ने इस मामले को लेकर सीएम विजय रुपाणी पर हमला बोला। कांग्रेस ने कहा कि इस महामारी मे भी गुजरात में भ्रष्टाचार पुर जोश मे चल रहा है। सीएम ने अपने मित्र को फ़ायदा पहुंचाने के लिए डीजीसीआई के लाइसेंस को भी नज़र अंदाज़ किया।

इस मामले को लेकर गुजरात के दलित नेता जिग्नेश मेवाणी ने एक ट्वीट करके गुजरात सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने ट्वीट में लिखा था, “मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कथित तौर पर अंबु बैग वेंटिलेटर्स के तौर पर अहमदाबाद के सिविल हॉस्पिटल में पास करके लगवाया था। अपने दोस्त की कंपनी को हित पहुंचाने के लिए लिया गया ये क़दम लोगों की जान के साथ समझौता है।”

वहीं प्रशांत भूषण ने भी गुजरात सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा, “गुजरात मॉडल! सीएम रूपाणी के द्वारा अंबु बैग को वेंटिलेटर्स की जगह पास करना अपराध होने के साथ ही ये भी दर्शाता है कि विजय रूपाणी के शासन में गुजरात सरकार किस तरह से काम कर रही है।”

गौरतलब है कि देश में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 101139 हो गई है। पिछले 24 घंटे की रिपोर्ट बेहद चिंताजनक है। 24 घंटे में कोरोना के 4970 नए केस सामने आए हैं और 134 लोगों की मौत हो गई है। देश में अब तक कोरोना से 3163 लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना प्रभावित राज्यों में गुजरात तीसरे नंबर पर है। गुजरात में कोरोना के 11,746 केस सामने आ चुके हैं। राज्य में 6,248 केस सक्रिय हैं। 4,804 लोगों को इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है। कोरोना की चपेट में आकर अब तक 694 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।

इसे भी पढ़ें: देश में कोरोना मरीजों की संख्या पहुंची 1 लाख के पार, 24 घंटे में 4970 नए केस, 134 की मौत, अब तक 3163 की गई जान

लोकप्रिय
next