नहीं होता लॉकडाउन तो 15 अप्रैल तक कोरोना संक्रमण के हो जाते 8.2 लाख केस: स्वास्थ्य मंत्रालय

देश में लॉकडाउन को दो सप्ताह और बढ़ाए जाने की खबरों के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि अगर लॉकडाउन और कंटेनमेंट जैसे कदम नहीं उठाए जाते तो देश में अब तक 8.2 लाख कोरोना पॉजिटिव केस हो गए होते।

फोटो : पीआईबी
फोटो : पीआईबी
user

नवजीवन डेस्क

देश में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या बढ़ रही है, लेकिन दूसरे देशों के मुकाबले अब भी यह काफी कम है जो कि संतोष की बात है। शनिवार को स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रावल ने जो आंकड़े पेश किए उसके मुताबिक कल से अब तक देश में कुल 1035 नए मामले सामने आए जिसके बाद कोरोना वायरस से संक्रमित कुल मामलों की संख्या देश में 7,447 हो गई। वहीं कल यानी शुक्रवार को इस बीमार से 40लोगों की मौत हुई, जिसके साथ इससे हुई मौतों का आंकड़ा 239 हो गया।

कोरोना के खतरे से संबंधित सारे LIVE अपडेट नीचे पढ़ें:

इस बीच स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि अगर लॉकडाउन और कंटेनमेंट जैसे कदम नहीं उठाए गए होते तो देश में कोरोना प्रभावित केसों की संख्या 8 लाख से ज्यादा होती। उन्होंने कहा कि कोरोना पॉजिटिव का यह आंकड़ा 15 अप्रैल तक हो जाता।

इस बीच खबर है केंद्र सरकार के सारे मंत्री सोमवार से अपने दफ्तरों में काम करेंगे साथ ही संयुक्त सचिव और उनसे ऊपर के रैंक के सारे अफसर भी दफ्तरों से काम करेंगे।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय