दिल्ली: जातीय हिंसा के खिलाफ अमित शाह के आवास के बाहर कुकी महिलाओं का प्रदर्शन, पुलिस ने हिरासत में लिया

अमित शाह के घर के बाहर प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया गया और जंतर मंतर लाया गया। पुलिस ने कहा कि हमने उन्हें सूचित किया कि अगर वे चाहें तो वहां विरोध प्रदर्शन कर सकते हैं।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

मणिपुर के कुकी आदिवासी समुदाय की महिलाओं के एक समूह ने पूर्वोत्तर राज्य में जातीय हिंसा के खिलाफ आज दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के आवास के बाहर विरोध प्रदर्शन किया। इस हिंसा में 100 से अधिक लोगों की जान जा चुकी है।

केंद्रीय मंत्री ने हाल ही में 29 मई से 1 जून तक मणिपुर का दौरा किया था। जानकारी के मुताबिक, महिलाएं अमित शाह के आवास के बाहर सुबह करीब नौ बजे जमा हुईं।

हालांकि, सभी प्रदर्शनकारियों को दिल्ली पुलिस द्वारा जाने का निर्देश दिया गया था, क्योंकि क्षेत्र में किसी भी प्रकार के विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं है। दिल्ली पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि विरोध की सूचना मिलने पर, उन्होंने प्रदर्शनकारियों को शांत करने के लिए एक टीम भेजी।

पुलिस ने शुरू में प्रदर्शनकारियों से कहा था कि अमित शाह के आवास के बाहर इकट्ठा होना अवैध है। पुलिस ने कहा, सभी प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया गया और जंतर मंतर लाया गया। हमने उन्हें सूचित किया कि अगर वे चाहें तो वहां विरोध प्रदर्शन कर सकते हैं।

मणिपुर में ऑल ट्राइबल स्टूडेंट्स यूनियन ऑफ मणिपुर द्वारा मैतेई समुदाय की अनुसूचित जनजाति का दर्जा देने की मांग के विरोध में 11 पहाड़ी जिलों में 'आदिवासी एकजुटता मार्च' आयोजित किए जाने के बाद से मणिपुर में जातीय हिंसा हुई। हिंसा में अब तक 320 से अधिक लोग घायल भी हुए हैं।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;