देश में आ गई है कोरोना की नई लहर? तेजी से बढ़ते मामलों ने बढ़ाई चिंता, आप भी रहें सावधान!

डॉ. रोहित कुमार गर्ग ने कहा, "हर नए वेरिएंट की शुरुआत के साथ मामलों की संख्या में क्षणिक वृद्धि हो सकती है। हालांकि हम एक और लहर की उम्मीद नहीं करते, हमें सावधान और सतर्क रहने की जरूरत है।"

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

देश में जनवरी 2022 में तीसरी लहर के बाद इस समय कोविड मामलों में सबसे तेज वृद्धि देखी जा रही है, वहीं विशेषज्ञों ने कहा कि संक्रमण में मौजूदा उछाल 'हल्का' है, मगर चिंता की बात भी है।

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के अनुसार, भारत में सोमवार को कोविड संक्रमण के 3,641 मामले आए। शनिवार को 3,824 नए मामले आए, जो लगभग 184 दिनों के दौरान एक दिन में सबसे बड़ी वृद्धि है। पिछले हफ्ते देश में 18,450 नए मामलों के साथ वृद्धि देखी गई थी, जो पिछले सप्ताह के 8,781 मामलों से काफी अधिक थी। ओमिक्रॉन वेरिएंट बीबी.1.16 को मामलों में अचानक वृद्धि का कारण माना जा रहा है।

मेदांता के आंतरिक चिकित्सा, श्वसन और नींद चिकित्सा संस्थान के अध्यक्ष और चिकित्सा शिक्षा निदेशक, डॉ. रणदीप गुलेरिया ने बताया, "अन्य कारकों के साथ नया वेरिएंट, जिसमें कोविड के अनुकूल व्यवहार में कमी और मौसम में बदलाव शामिल है - हमें श्वसन स्थितियों के प्रति अधिक संवेदनशील बनाता है। हम एक हल्की लहर देख सकते हैं, लेकिन कुल मिलाकर यह हल्की है, गंभीर नहीं और इस स्थिति में संक्रमित लोगों को अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत नहीं है।"

अमृता अस्पताल, फरीदाबाद में संक्रामक रोग विभाग के सलाहकार डॉ. रोहित कुमार गर्ग ने कहा, "हर नए वेरिएंट की शुरुआत के साथ मामलों की संख्या में क्षणिक वृद्धि हो सकती है। हालांकि हम एक और लहर की उम्मीद नहीं करते, हमें सावधान और सतर्क रहने की जरूरत है।"


विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) में कोविड प्रतिक्रिया के लिए तकनीकी प्रमुख डॉ. मारिया वान केरखोव ने हाल ही में कहा था कि 22 देशों के ओमिक्रॉन वेरिएंट एक्सबीबी.1.16 के लगभग 800 सीक्वेंस हैं। अधिकांश सीक्वेंस भारत से हैं और भारत में बीबी.1.16 ने प्रचलन में आने वाले अन्य वेरिएंट को बदल दिया है। वान केरखोव ने कहा कि बीबी.1.16 की प्रोफाइल बीबी.1.5 के समान है, लेकिन स्पाइक प्रोटीन में अतिरिक्त बदलाव देखा जा रहा है।

उन्होंने कहा कि प्रयोगशाला अध्ययनों में बीबी.1.16 ने बढ़ी हुई संक्रामकता के साथ-साथ संभावित रूप से बढ़ी हुई रोगजनकता के संकेत दिखाए हैं। गर्ग ने कहा, "बीबी.1.16 ओमिक्रॉन वेरिएंट की एक सबलाइन है। जीनोमिक सीक्वेंस डेटा इंगित करता है कि बीबी.1.16 में कुछ अतिरिक्त स्पाइक म्यूटेशन हैं। जैसा कि बताया गया है, यह नया वेरिएंट ट्रांसमिशन के मोड, संक्रमण के मार्ग और क्लिनिकल के संबंध में अन्य वेरिएंट के समान है। अब तक उपलब्ध आंकड़े अधिकांश रोगियों में बीमारी की हल्की प्रकृति बताते हैं।" "हालांकि, स्थिति चिंता का कारण है और हमारी कोविड उचित व्यवहार रणनीतियों को आगे बढ़ाने के लिए कहा।"

गर्ग ने कहा कि अब तक महामारी के विकास और इस वायरस की उत्परिवर्तित प्रकृति के साथ यह कहना तर्कसंगत लगता है कि वायरस रहने वाला है। जबकि बीबी.1.16 पर अतिरिक्त म्यूटेशनों ने इसकी संप्रेषणीयता को प्रभावित किया है, 'प्रतिरक्षा बचाव अभी बाकी है'। इसके अलावा, इस वायरस की परिवर्तनशील प्रकृति को देखते हुए हम भविष्य में भी इसके छोटे प्रकोपों की उम्मीद कर सकते हैं।

गर्ग ने कहा, "हर किसी को तीसरी खुराक लेनी चाहिए, विशेष रूप से गंभीर बीमारियों के उच्च जोखिम वाले रोगियों को। उपलब्ध टीके सुरक्षित हैं और हमें गंभीर बीमारी से बचाते हैं।" गर्ग ने अन्य निवारक रणनीतियों के साथ-साथ मास्क के उपयोग के बारे में जागरूकता बढ़ाने का भी आह्वान किया।

गर्ग ने कहा, "मेरी राय में, सभी रोगसूचक (श्वसन तंत्र के संक्रमण) रोगियों, गंभीर बीमारी के जोखिम वाले व्यक्तियों और उनके करीबी संपर्को, विशेष रूप से भीड़ वाली बंद जगहों पर मास्क के उपयोग की सिफारिश की जानी चाहिए।"

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;