झूठ बोल रहे हैं अकबर, सहमति से नहीं, जबरदस्ती से हुआ था रेप: पल्लवी गोगोई 

एशियन एज की पूर्व पत्रकार पल्लवी गोगोई ने कहा है कि एक ऐसा रिश्ता जो खौफ पैदा कर, सत्ता का गलत इस्तेमाल कर बनता है वो सहमति से बना रिश्ता नहीं होता है। उन्होंने कहा कि वे अपने पूर्व के बयान पर अब भी कायम हैं।

फोटो: सोशल मीडिया 
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

पूर्व विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर पर रेप का आरोप लगाने वाली एशियन एज की पूर्व पत्रकार पल्लवी गोगोई ने झूठ बोलने का आरोप लगाया है। उन्होंने एमजे अकबर के बयान की आलोचना करते हुए कहा कि दोनों के बीच कभी भी आपसी सहमति से संबंध नहीं बने थे।

ट्विटर पर अपना बयान जारी करते हुए पल्लवी गोगोई ने लिखा, “कल वॉशिंगटन पोस्ट ने मेरा लेख छापा था, जिसमें मैंने एमजे अकबर पर शारीरिक शोषण, मौखिक और यौन शोषण के आरोप लगाए थे। उस वक्त मेरी उम्र 20 साल की रही होगी। जहां में काम करती थी वहां अकबर बॉस थे। उन्होंने जो कुछ भी मेरे साथ और अन्य महिला पत्रकारों के साथ किया, उसकी जिम्मेदारी लेने की बजाय सफाई देने में जुटे हैं। वे कह रहे हैं कि जो भी संबंध थे वे आपसी सहमति से थे, जबकि ऐसा बिल्कुल नहीं है। एक ऐसा रिश्ता जो खौफ पैदा कर, सत्ता का गलत इस्तेमाल कर बनता है वो सहमति से बना रिश्ता नहीं होता है। मैं अपने प्रकाशित लेख में लिखे गए एक-एक शब्दों पर अब भी कायम हूं।”

इससे पहले पल्लवी गोगोई के आरोपों पर एमजे अकबर ने सफाई देते हुए रेप के आरोपों को खारिज किया था। उन्होंने कहा था कि करीब 24 साल पहले वह और पल्लवी सहमति से रिलेशनशिप में थे, जो कई महीनों तक चला। उन्होंने कहा था कि तब हमारे संबंधों को लेकर उनके घरेलू जीवन में भी कलह हुई थी। हालांकि बाद में ये संबंध खराब मोड़ पर खत्म हो गया था। अकबर के बचाव में उनकी पत्नी ने भी बयान जारी किया है। उन्होंने भी वही बातें कही हैं, जो अकबर ने कही हैं।

इसे भी पढ़े: अमेरिका में बसी भारतीय पत्रकार ने अकबर पर लगाया रेप का आरोप, पूर्व मंत्री ने माना, जो हुआ सहमति से हुआ

बता दें कि मोदी सरकार में विदेश राज्यमंत्री रहे पूर्व पत्रकार एमजे अकबर पर बीते दिनों कई महिला पत्रकारों ने सोशल मीडिया पर चल रहे #मीटू मुहिम के तहत यौन शोषण के आरोप लगाए हैं। जिसके बाद अकबर ने सबसे पहले आरोप लगाने वाली प्रिया रमानी नाम की वरिष्ठ पत्रकार के खिलाफ मानहानि का मुकदमा ठोका है। लेकिन चौतरफा लग रहे आरोपों के बाद दबाव में आकर कुछ दिन पहले केंद्र सरकार को एमजे अकबर से इस्तीफा लेना पड़ा। फिलहाल अकबर के मामले की सुनवाई अदालत में चल रही है।

लोकप्रिय