प्रियंका का योगी सरकार पर हमला, कहा- यूपी में महिलाएं सुरक्षित नहीं, बलात्कारियों के साथ खड़ी है बीजेपी सरकार

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने यूपी की बीजेपी सरकार पर हमला बोला है। प्रियंका ने कहा कि उत्तर प्रदेश में महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। उन्होंने आगे कहा कि एक दिन भी ऐसा नहीं बीतता जिस दिन बीजेपी सरकार महिलाओं को ये भरोसा दिलाने में कामयाब हो कि आप सुरक्षित हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

पूर्व केंद्रीय गृहराज्य मंत्री स्वामी चिन्मयानंद पर उनके ही कॉलेज में एलएलएम की एक छात्रा को अगवा करने और धमकी देने का मुकदमा दर्ज किया गया। इसको लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने यूपी की बीजेपी सरकार पर हमला बोला है। प्रियंका ने कहा कि उत्तर प्रदेश में महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में एक दिन भी ऐसा नहीं बीतता जिस दिन बीजेपी सरकार महिलाओं को ये भरोसा दिलाने में कामयाब हो कि आप सुरक्षित हैं और अगर आपके साथ कोई घटना घटती है तो आपको न्याय मिलेगा। प्रियंका ने कहा कि आवाज उठाने वाली लड़की लापता है या कर दी गयी है। उसके साथ क्या हो रहा है कोई नहीं जानता। आखिर ये कब तक चलेगा?

कांग्रेस महासचिव ने ट्वीट कर कहा, “उत्तर प्रदेश में ये उन्नाव मामले जैसा ही दुहराव लग रहा है। अगर कोई महिला बीजेपी नेता के खिलाफ शिकायत करती है, तो उसको न्याय मिलना तो दूर की बात, उसकी खुद की सुरक्षा की भी गारंटी नहीं रहती।”

प्रियंका ने योगी सरकार पर ब्लात्कार के आरोपियों को बचाने के भी आरोप लगाए हैं। इसके अलावा दूसरे ट्वीट में उन्होंने कहा, “पिछले ही साल आरोपी पर से बलात्कार का मुकदमा बीजेपी सरकार ने वापस लिया था। बहुत साफ है सरकार किसके साथ खड़ी है। यूपी की लड़कियां सब देख रही हैं।”

गौरतलब है कि पूर्व केंद्रीय गृहराज्य मंत्री स्वामी चिन्मयानंद पर उनके ही कॉलेज में एलएलएम की एक छात्रा को अगवा करने और धमकी देने का मुकदमा डीजीपी के निर्देश पर दर्ज किया गया है।

यह मुकदमा छात्रा के पिता की ओर से शाहजहांपुर की चौक कोतवाली में दर्ज कराया गया है। पुलिस की कई टीमें छात्रा की तलाश में लगी हैं। पुलिस अधीक्षक एस़ चनप्पा ने बताया कि छात्रा के परिवार को सरकारी सुरक्षा मुहैया कराई गई है।

इसे भी पढ़ें: बीजेपी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद पर यौन शोषण का आरोप लगाने वाली छात्रा लापता

लोकप्रिय