किसानों की रिहाई को लेकर अन्नदाता का हल्ला बोल, हरियाणा सरकार को दिया अल्टीमेटम, बड़े आंदोलन की दी चेतावनी

किसानों ने अपने नेताओं की रिहाई की मांग को लेकर पंजाब और हरियाणा के विभिन्न स्थानों पर अपना एकजुटता प्रदर्शन जारी रखा और हरियाणा सरकार को चेतावनी भी दी।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

हरियाणा में प्रदर्शनकारी किसानों ने अधिकारियों को भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के प्रदेश अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी सहित उनके नौ नेताओं को तुरंत रिहा करने की चेतावनी दी है, जिन्हें इस सप्ताह राष्ट्रीय राजमार्ग-44 को अवरुद्ध करने के आरोप में 14 दिनों के लिए हिरासत में भेज दिया गया था, अन्यथा 12 जून को एक विशाल रैली आयोजित की जाएगी। गुरुवार को भी किसानों ने अपने नेताओं रिहाई की मांग को लेकर पंजाब और हरियाणा के विभिन्न स्थानों पर अपना एकजुटता प्रदर्शन जारी रखा।

एक दिन पहले, गिरफ्तार किसान नेताओं को एक अदालत के समक्ष पेश किया गया, जिसने उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। दंगों से संबंधित आरोपों के अलावा, वे गैरकानूनी सभा, लोक सेवकों को कर्तव्य निर्वहन से रोकने के लिए आपराधिक बल के उपयोग और हत्या के प्रयास के मामलों का सामना कर रहे हैं।

बीकेयू नेता राकेश टिकैत ने बुधवार को सरकार द्वारा फसलों की खरीद के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की कानूनी गारंटी की घोषणा नहीं करने पर अब निरस्त कृषि कानूनों के खिलाफ साल भर चले आंदोलन से बड़ा आंदोलन करने की धमकी दी। आंदोलनकारी किसानों और गिरफ्तार किए गए लोगों को समर्थन देने के लिए कुरुक्षेत्र जिले के शाहाबाद पहुंचे टिकैत ने राज्य सरकार से एमएसपी पर सूरजमुखी के बीज खरीदने की मांग को लेकर मंगलवार को राष्ट्रीय राजमार्ग जाम करने वाले प्रदर्शनकारी किसानों पर पुलिस लाठीचार्ज की निंदा की।


यह दावा करते हुए कि फसलों के लिए एमएसपी एक अखिल भारतीय मुद्दा है, उन्होंने कहा, एमएसपी की मांग करने वालों पर यह देश में पहला लाठीचार्ज है। शाहाबाद में शुरू हुआ संघर्ष राष्ट्रीय स्तर तक पहुंचेगा, क्योंकि प्रत्येक किसान एमएसपी के लिए चिंतित है। एमएसपी के लिए दिल्ली से बड़ा आंदोलन करना होगा। चढ़ूनी के बेटे अर्शपाल सिंह ने मीडिया से कहा कि सरकार नेताओं को रिहा करे और 12 जून तक एमएसपी पर खरीद शुरू करे, नहीं तो वे विरोध तेज करेंगे।

हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश के किसान संघ 12 जून को 'एमएसपी दिलाओ, किसान बचाओ' रैली के लिए पिपली अनाज मंडी में एकत्रित होकर रणनीति बनाएंगे और कुछ बड़े फैसले लेंगे। किसान सूरजमुखी के बीज को 6,400 रुपये प्रति क्विंटल के निर्धारित एमएसपी पर खरीदने की मांग कर रहे हैं। शाहाबाद के विधायक राम करण काला, जो भाजपा की सहयोगी जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) के नेता हैं, ने कहा कि अगर राज्य सरकार किसानों की मांग को स्वीकार करने में विफल रही तो वह हरियाणा चीनी महासंघ के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे देंगे।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;