हरियाणा: महिलाओं के साथ बलात्कार और हत्या के मामलों के बीच ‘बेटी बचाओ’ के नारे का क्या है मतलब?

मोदी सरकार के ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ अभियान के शोर के बीच हरियाणा में महिलाओं के साथ लगातार हो रहे दुष्कर्म और हत्या की घटनाओं ने मनोहर लाल खट्टर सरकार के महिला सुरक्षा के दावों की पोल खोल दी है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

आईएएनएस

हरियाणा में सब कुछ ठीक नहीं है। मोदी सरकार के 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' अभियान के शोर के बीच राज्य में लगातार हो रही दुष्कर्म और हत्या की घटनाओं ने मनोहर लाल खट्टर सरकार के महिला सुरक्षा के दावों की पोल खोल दी है। वह भी ऐसे समय में, जब बेटियों के लिए मोदी सरकार के अभियान के इसी हरियाणा में सबसे ज्यादा कारगर होने की खबरें आ रही थीं। हरियाणा की चंद कामयाब महिलाओं की उपलब्धियों का ढोल पीटकर और बाकी बहू-बेटियों की दुर्दशा पर पर्दा डालकर कहीं हमें बेवकूफ तो नहीं बनाया जा रहा है? सबसे बड़ा प्रश्न यह है कि देशभर की महिलाएं असुरक्षा के साय में जी रही हैं, लेकिन महिलाओं की बदहाली की सूई हर बार 'खाप प्रधान राज्य' हरियाणा पर ही आकर क्यों रुकती है?

कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता एवं पार्टी के संचार विभाग की संयोजक प्रियंका चतुर्वेदी का कहना है, "जिस बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ रिपोर्ट का जिक्र किया जा रहा है कि हरियाणा इसमें अव्वल है, उस रिपोर्ट में कई कमियां पाई गई हैं। एक ऑडिट में यह सच्चाई सामने आई है। दरअसल, सरकार ने अपनी छवि सुधारने के लिए जानबूझकर गलत डाटा पेश किया था।" प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा, "हरियाणा सरकार महिलाओं पर जुल्म को लेकर गंभीर कहां से होगी, जब राज्य के मुखिया ही इस तरह की वारदातों को छोटी-मोटी घटनाएं कहकर कन्नी काट लेते हैं। यहां महिलाओं को आजादी के नाम पर बगैर कपड़ों के घूमने की नसीहत दी जा रही है। आंदोलन कर रही महिलाओं को वेश्या कहा जा रहा है। घूंघट को शान से जोड़कर देखा जा रहा है।" उन्होंने आगे कहा, "हद तो यह है कि सरकार का एक मंत्री एक महिला का पीछा करता दिखता है। क्या ऐसी सरकार महिला सुरक्षा को लेकर कभी गंभीर हो सकती है? जब सरकार ही महिलाओं को लेकर असंवेदनशील होगी तो अपराध तो बढ़ेंगे ही।"

इसे भी पढ़ेंः हरियाणा में हैवानियत का राज: सामूहिक बलात्कार के 3 नए मामले, सीएम के गांव में लोक गायिका की हत्या

हरियाणा में इन अपराधों को बढ़ावा देने में क्या खाप पंचायतों की अहम भूमिका रही है? इस सवाल पर महिला कार्यकर्ता मानसी प्रधान कहती हैं, "यह सच है। खाप पंचायतों के बर्बर फैसलों और लैंगिक असमानता की वजह से राज्य की छवि तार-तार हुई है। यूं तो महिलाएं देश में कहीं भी सुरक्षित नहीं हैं, लेकिन हरियाणा में हालात बद से बदतर हैं। आए दिन महिलाओं के खिलाफ अपराध की खबरें सुनने को मिल रही हैं। लोक गायिकाओं की हत्या हो रही है। प्रेमी जोड़ों में खाप का आतंक है। पुरुषों के मुकाबले स्त्रियों को वह सम्मान नहीं दिया जा रहा, जिसकी वह हकदार है।"

इसे भी पढ़ेंः मन की बात में हरियाणा में बलात्कार की घटनाओं पर जवाब दें पीएमः कांग्रेस

सवाल यह भी उठता है कि क्या हरियाणा की पृष्ठभूमि पर आधारित 'दंगल' जैसी कुछेक फिल्मों से राज्य की छवि चमकी है? प्रियंका चतुर्वेदी कहती हैं, "फिल्मों से समाज पर थोड़ा बहुत प्रभाव पड़ सकता है, लेकिन राज्य की छवि नहीं चमकाई जा सकती। महिलाओं की सुरक्षा को लेकर धरातल पर पूरे मन से काम करने की जरूरत है।" वह बताती हैं, "हरियाणा सामूहिक दुष्कर्म में नंबर वन है। सरकार का ध्यान महिलाओं की सुरक्षा से ज्यादा गायों को बचाने पर है, क्योंकि यह आरएसएस के एजेंडे में शामिल है। हां, गायों को भी बचाया जाना चाहिए, लेकिन दोनों को एक तराजू में नहीं तोला जा सकता।"

इसे भी पढ़ेंः मासूमों से हरियाणा में हैवानियत, 24 घंटे के अंदर 3 गैंगरेप से हिला प्रदेश, जींद में निर्भया जैसी बर्बरता

राष्ट्रीय महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष ललिता कुमारमंगलम कहती हैं कि स्त्री-पुरुष अनुपात को लेकर हरियाणा का जिस तरह का इतिहास रहा है, वह अभी भी इसके आड़े रहा है। इस समस्या को राजनीतिक चश्मे से देखने की जरूरत नहीं है। वह कहती हैं, "महिलाओं के खिलाफ अपराध के मामले तो देशभर से सामने आ रहे हैं, मगर चूंकि लैंगिक असमानता का मुद्दा हरियाणा में बरसों से रहा है, तो यकीनन स्त्री-पुरुष भेदभाव के मामले में पहली नजर हरियाणा पर ही जाती है। समाज का दृष्टिकोण बदलने से सुधार संभव है। इसे राजनीतिक चश्मे से देखना बंद करना होगा।"

लोकप्रिय
next