फादर स्टेन स्वामी को न्याय के प्रति गहरी प्रतिबद्धता और साहस के लिए हमेशा याद किया जाएगा

उनकी मौत और लगभग नौ महीने पहले 83 वर्षीय बीमार पादरी की गिरफ्तारी के बाद की अंतहीन पीड़ा को भारतीय लोकतंत्र के इतिहास में एक अत्यंत दुखद घटना के रूप में दर्ज किया जाएगा- एक ऐसी बड़ी त्रासदी जिसे देर होने के बावजूद अंतिम समय में आसानी से टाला भी जा सकता था।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

भारत डोगरा

अत्यंत दुखद परिस्थितियों में 5 जुलाई को फादर स्टेन स्वामी के निधन का उन सभी लोगों द्वारा शोक मनाया जाएगा जो बुनियादी मानवीय मूल्यों में विश्वास करते हैं। वह अनगिनत लोगों द्वारा न्याय के प्रति अपनी बेहद मजबूत प्रतिबद्धता और अपने विचारों और मूल्यों के लिए बड़े साहस के साथ खड़े होने के लिए याद किये जाएंगे। उन्हें मूल निवासियों के अधिकारों और पर्यावरण की सुरक्षा के एक चैंपियन के रूप में याद किया जाएगा, जो इन संस्कृतियों से बेहद करीब से जुड़ा हुआ है। उनकी मृत्यु और लगभग नौ महीने पहले 83 वर्षीय बीमार पादरी की गिरफ्तारी के बाद की अंतहीन पीड़ा को भारतीय लोकतंत्र के इतिहास में एक अत्यंत दुखद घटना के रूप में दर्ज किया जाएगा- एक ऐसी बड़ी त्रासदी जिसे देर होने के बावजूद अंतिम समय में आसानी से टाला भी जा सकता था।

इस त्रासदी की भयावहता और भारतीय राष्ट्र, लोकतंत्र तथा संघवाद को हुए भारी नुकसान को समझने के लिए हमें विभिन्न मुख्यमंत्रियों के शोक संदेशों को देखने की जरूरत है, जो कि मीडिया में आए हैं। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि फादर स्टेन स्वामी ने आदिवासी समुदायों के अधिकारों के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया था। यह बताते हुए कि उन्होंने स्टेन स्वामी की गिरफ्तारी का कड़ा विरोध किया था, सोरेन ने केंद्र सरकार द्वारा दिखाई गई पूर्ण उदासीनता पर खेद व्यक्त किया है। केरल के मुख्यमंत्री पी. विजयन ने कहा कि यह बेहद अनुचित है कि एक व्यक्ति जिसने समाज के सबसे पिछड़े लोगों के लिए जीवन भर संघर्ष किया, उसे हिरासत में ही मरना पड़ा। उन्होंने कहा कि न्याय के इस उपहास की हमारे लोकतंत्र में कोई जगह नहीं होनी चाहिए। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम.के. स्टालिन ने फादर का दलितों के लिए लड़ने वाले के रूप में वर्णन करने के बाद कहा कि जो त्रासदी उनके साथ हुई वह किसी के साथ नहीं होनी चाहिए।


फादर स्टेन स्वामी की इन दुखद परिस्थितियों में निधन पर अंतर्राष्ट्रीय समुदाय द्वारा भी गहरा दुख जताया गया। मीडिया में आई खबरों के मुताबिक यूरोपियन यूनियन के मानवाधिकारों के विशेष प्रतिनिधि इमोन गिलमोर ने कहा कि फादर स्टेन स्वामी मूल निवासियों के अधिकारों के रक्षक थे और यूरोपीय संघ उनकी स्थिति के बारे में चिंता व्यक्त करता रहा था। मानवाधिकार पर संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत मैरी लॉलर ने कहा कि इस मौत की खबर बहुत ही विनाशकारी है। फादर स्टेन स्वामी को मानवाधिकार रक्षक बताते हुए उन्होंने कहा कि मानवाधिकार रक्षक को जेल में रखना अक्षम्य है। उन्होंने खेद व्यक्त किया कि उन्हें आतंकवाद के झूठे आरोपों में गिरफ्तार किया गया था।

फादर स्टेन स्वामी की अत्यधिक दुखद मौत पर राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय गहरे अफसोस का यह संक्षिप्त चयन गहरे दुख और लोगों में व्यापक आक्रोश इस बात का संकेत है कि उनकी मनमानी और अनुचित गिरफ्तारी की प्रारंभिक गंभीर गलती को ठीक करने के लिए कई महीनों का मौका उपलब्ध था और इतने सारे लोग और प्रतिष्ठित व्यक्ति इस गंभीर चूक पर ध्यान आकर्षित करने की लगातार कोशिश कर रहे थे।

फादर स्टेन स्वामी करीब 9 महीने से जेल में थे। वह पार्किंसंस रोग से पीड़ित थे, उन्हें अक्सर एक गिलास पकड़ना मुश्किल हो जाता था, सुनने में कठिनाई होती थी, उनकी कई सर्जरी हुई थी और उम्र से संबंधित कई बीमारियों से पीड़ित थे। जेल में कोविड संक्रमण का अतिरिक्त खतरा था। शांति में दृढ़ विश्वास रखने वाले और स्टेन स्वामी और उनके काम को जानने वाले कई प्रसिद्ध शख्सियतों द्वारा उनके खिलाफ आरोपों का खंडन किया गया था।


जिन लोगों ने उनकी रिहाई की मांग की थी और उनकी बेगुनाही पर जोर दिया था, उनमें कम से कम दो मुख्यमंत्री, प्रमुख विपक्षी नेता, प्रख्यात शिक्षाविद और प्रतिष्ठित व्यक्ति, भारत में जेसुइट पुजारियों और अन्य पुजारियों के संघ, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अन्य देशों में इसी तरह के संघ, भारत और विदेशों के मानवाधिकार संगठन, भारत और विदेशों के ईसाई संगठन और भी अन्य लोग और संगठन इस लंबी सूची में शामिल हैं। निश्चित रूप से भारत सरकार को ऐसे वरिष्ठ व्यक्ति और अन्य लोगों के लिए न्याय के लिए बेहतर तरीके से जवाब देना चाहिए था, जिन्हें गिरफ्तारी की समान स्थिति में रखा गया, जिसे व्यापक रूप से अत्यधिक अन्यायपूर्ण माना जाता है। ऐसे सभी व्यक्तियों की सूची सेवानिवृत्त वरिष्ठ न्यायाधीशों सहित प्रख्यात न्यायविदों की सहायता से सावधानीपूर्वक तैयार की जानी चाहिए और ऐसे व्यक्तियों को यथाशीघ्र रिहा किया जाना चाहिए।

फादर स्टेन स्वामी की गिरफ्तारी का विरोध करते हुए इस लेखक ने बहुत पहले ही कहा था- "कई बीमारियों से पीड़ित फादर स्टेन स्वामी जैसे एक बहुत बुजुर्ग व्यक्ति के मामले में एक अतिरिक्त प्रश्न यह है- यदि भगवान न करे, जेल में उनके साथ कुछ गंभीर हो जाए तो कौन जिम्मेदार होगा? कोविड का समय चल रहा है और जैसा कि संयुक्त राष्ट्र के वरिष्ठ अधिकारियों सहित विश्व-स्तरीय ख्याति के कई व्यक्तियों द्वारा जोर दिया गया है कि राजनीतिक कैदियों के रूप में जेल में बंद प्रतिष्ठित व्यक्तियों के स्वास्थ्य और जीवन की रक्षा करने की विशेष आवश्यकता है।”

(लेखक एक अनुभवी पत्रकार और लेखक हैं। उनकी हाल की पुस्तकों में व्हेन द टू स्ट्रीम्स मेट (भारत का स्वतंत्रता आंदोलन), मैन ओवर मशीन (हमारे समय के लिए गांधीवादी विचार) और प्रोटेक्टिंग अर्थ फॉर चिल्ड्रेन शामिल हैं)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia