Results For "Indian democracy "

#SpeakUpForDemocracy कैंपेन के तहत राहुल गांधी की अपील, आइए एकजुट होकर लोकतंत्र की रक्षा के लिए उठाएं आवाज

हालात

#SpeakUpForDemocracy कैंपेन के तहत राहुल गांधी की अपील, आइए एकजुट होकर लोकतंत्र की रक्षा के लिए उठाएं आवाज

विष्णु नागर का व्यंग्यः ‘न्यू इंडिया’ में नेहरू के भारत वाली आजादी की कल्पना देशद्रोह, सपने देखना भी गुनाह!

विचार

विष्णु नागर का व्यंग्यः ‘न्यू इंडिया’ में नेहरू के भारत वाली आजादी की कल्पना देशद्रोह, सपने देखना भी गुनाह!

राम पुनियानी का लेखः भारत में खोखला होता जा रहा है प्रजातंत्र, यहां किसी फ्लॉयड की हत्या पर नहीं उठता शोर

विचार

राम पुनियानी का लेखः भारत में खोखला होता जा रहा है प्रजातंत्र, यहां किसी फ्लॉयड की हत्या पर नहीं उठता शोर

मृणाल पांडे का लेख: कोरोना काल में गणतंत्र की चरमराती व्यवस्था के बीच राजधर्म का है असल सवाल

विचार

मृणाल पांडे का लेख: कोरोना काल में गणतंत्र की चरमराती व्यवस्था के बीच राजधर्म का है असल सवाल

सांप्रदायिक सद्भावना हमारे देश की पहचान, मौजूदा समय में इसे बनाए रखने के लिए  निरंतर प्रयास की जरूरत

विचार

सांप्रदायिक सद्भावना हमारे देश की पहचान, मौजूदा समय में इसे बनाए रखने के लिए निरंतर प्रयास की जरूरत

गैरबराबरियों से आजादी की आवाज दबाने  नहीं, बुलंद करने की इजाजत देता है संविधान

विचार

गैरबराबरियों से आजादी की आवाज दबाने  नहीं, बुलंद करने की इजाजत देता है संविधान

पूर्व राष्ट्रपति मुखर्जी ने सरकार को दिखाया आईना, बोले- सड़कों पर आए युवाओं की संविधान में आस्था दिल छूने वाली

देश

पूर्व राष्ट्रपति मुखर्जी ने सरकार को दिखाया आईना, बोले- सड़कों पर आए युवाओं की संविधान में आस्था दिल छूने वाली

राम पुनियानी का लेखः दक्षिण एशिया का सबसे मजबूत लोकतंत्र रहा भारत, फिसलकर पाक की राह पर जा रहा  आज

विचार

राम पुनियानी का लेखः दक्षिण एशिया का सबसे मजबूत लोकतंत्र रहा भारत, फिसलकर पाक की राह पर जा रहा आज

भारतीय लोकतंत्र के लिए भी निर्णायक है हिंदी पट्टी में फिर से कांग्रेस का खड़ा होना

विचार

भारतीय लोकतंत्र के लिए भी निर्णायक है हिंदी पट्टी में फिर से कांग्रेस का खड़ा होना

मृणाल पांडे का लेखः लोकतांत्रिक संस्थानों की तोड़फोड़ पर सरकार से कठोर सवाल पूछना ही आजाद मीडिया का वरदान है

विचार

मृणाल पांडे का लेखः लोकतांत्रिक संस्थानों की तोड़फोड़ पर सरकार से कठोर सवाल पूछना ही आजाद मीडिया का वरदान है