विष्णु नागर का व्यंग्य: हमारे देश के महापुरुष के साथ हो रहा अनाचार, लोग नहीं मान रहे पर वो तो है ईश्वरीय अवतार!

दुख होता है कि इतनी महान शख्सियत को भी चुनाव का शिकार होना पड़ रहा है। उसे राममंदिर बनवाना पड़ा है और उसका उद्घाटन करना पड़ रहा है। पढ़ें विष्णु नागर का व्यंग्य।

प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर
user

विष्णु नागर

मुझे तो शर्म आने लगी है कि हम कितने गये बीते लोग हैं कि हमारे बीच एक महापुरुष, ईश्वर का साक्षात अवतार विद्यमान है, द्युतिमान है, गतिमान है, असत्यमान है और हम उसे ईश्वर छोड़, महान आदमी तक मानने को तैयार नहीं! न हम उसे अशोक महान मानने को राजी हैं, न अकबर महान। न हम उसे महात्मा गांधी मानते हैं,  न बाबासाहेब अंबेडकर। उसने सरदार पटेल की इतनी बड़ी प्रतिमा खड़ी करवाई मगर हा हंत, हम उसे सरदार पटेल तक मानने को तैयार नहीं, जबकि उसके भक्त उसे भगवान विष्णु का अवतार मानते हैं! इस जगद्गुरु देश के हम इतने पतित कब से और क्यों हो गए, इस पर गहन चिंतन की आवश्यकता है! इतिहास में यह बात एक दिन दर्ज होकर रहेगी कि वह कितना महान था और हम कितने पतित! अगर कोई और इस बात को दर्ज नहीं करेगा तो मैं दर्ज करूंगा!। वह रामलला की प्राण-प्रतिष्ठा कर रहा है तो मैं उसकी प्राण-प्रतिष्ठा करूंगा। उसे इतिहास में उचित स्थान दिलाऊंगा! यह उनकी नहीं, मेरी गारंटी है और मेरी गारंटी तो आप जानते ही हो! आपको क्या बताना!

मैं किसी महान आदमी के साथ इस तरह का अन्याय होते देख नहीं सकता। मैं उसे ईसामसीह की तरह कष्ट उठाते नहीं देख सकता। मैं हमेशा न्याय का पक्षधर रहा हूं। उसे न्याय दिलाकर ही रहूंगा। उस ईश्वरीय अवतार को इस धरती पर अपमानित नहीं होने दूंगा! मैं भी मैं हूं! मैं भी मैं-मैं करना खूब जानता हूं!

कोई और देश होता तो उस महापुरुष के साथ ऐसा अनाचार कभी नहीं हुआ होता। फौरन मान लिया जाता कि वह महान है, ईश्वर का दूत है, स्वयं भगवान है। वह इस धरती पर देश का उद्धार करने के लिए जन्मा है वरना स्वर्ग में उसे कौनसी तकलीफ थी, जो यहां आता?

न्यायसंगत तो यह होता कि उसे बिना चुनाव लड़े ही समारोहपूर्वक राजगद्दी सौंप दी जाती। ईश्वर के दूत, विष्णु के अवतार से चुनाव लड़ने के लिए कहना, उसका घोर अपमान है। वहां उसे मनाया जाता कि माननीय, आप हमारे लिए इस धरा पर पधारे हैं। हम आपको चुनाव लड़ने का कष्ट देकर पाप के भागीदार नहीं बन सकते! आप कृपया जीवनभर इस पद को सुशोभित करें। अगर आपकी इच्छा किसी दिन ऊपर जाने की हो, देवताओं की पंक्ति में अपना स्थान फिर से बनाने की  हो, तो आप अपने भरत को अपनी चरणपादुकाएं सौंप जाना। वहां ऊब जाओ तो यहां फिर से अवतार ले लेना मगर समस्या यहां यह पैदा कर दी गई है कि यहां चरणपादुकावाद नहीं चलता! बाबासाहेब और नेहरू जी जैसे लोग आमजनों को वोट डालने  की आदत डाल गए हैं तो इस सिद्ध महापुरुष को भी यह भुगतना ही होगा!


दुख होता है कि इतनी महान शख्सियत को भी चुनाव का शिकार होना पड़ रहा है। उसे राममंदिर बनवाना पड़ा है और उसका उद्घाटन  करना पड़ रहा है। इसके उद्घाटन की जब बारी आई है, रामलला में प्राण फूंकने का अवसर आया है तो इस पर  अड़ंगे पर अड़ंगे डालनेवाले मैदान में कूद पड़े हैं। विपक्ष ही नहीं, शंकराचार्य भी उस अवतारी पुरुष के रास्ते में खड़े हो गए हैं। कह रहे हैं कि ये कौन होता है रामलला की मूर्ति में प्राण फूंकनेवाला? मंदिर बनवाए ये महापुरुष और प्राण फूंके शंकराचार्य? रामलला की ऊंगली पकड़ कर उन्हें मंदिर तक ले जाए, ये महापुरुष और श्रेय लूट ले जाएं ये? सुनिए, वह इक्कीसवीं सदी का महापुरुष है और बेवकूफ नहीं है!

हम अगर इतने गये-गुजरे न होते तो इस महापुरुष को दिन-ब-दिन यह सिद्ध नहीं करना पड़ता कि वह कितना महान है? उसका कीमती समय इन फालतू बातों में क्यों बर्बाद होता? उसे जीते जी अपनी गैलरी क्यों बनवानी पड़ती? अपने नाम पर स्टेडियम क्यों बनवाना पड़ता? नमो ट्रेन क्यों चलवानी पड़ती? यह क्यों बताना नहीं पड़ता कि मैं ही महान हूं, मैं ही, मैं ही। मैंने ही बनाया है राममंदिर। मैंने ही किया है विकास। मैं ही लाया हूं देश में विज्ञान, तकनालाजी। मैंने ही डिजिटल पेमेंट की तकनालाजी को लोकप्रिय बनाया है। मैं ही उज्जवला स्कीम लाया हूं। उसे आखिर इतना मैं -मैं क्यों करना पड़ता? शेर होकर बकरी क्यों बनना पड़ता?

 मगर वीर तुम अड़े रहो। झूठ पर डटे रहो। काजू-पिस्ता चाबते रहो। हैल्थ-वैल्थ बनाते रहो। चुनाव दर चुनाव जीतते रहो। अंधभक्त बनाते रहो। मीडिया को गोदी में खिलाते रहो। राम-राम जपते रहो, पराया माल, अपना करते रहो। और फिर भी कारवां गुजर जाए, तो गुबार देखते रहो।  

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;