FIFA वर्ल्ड कप जीतने के बाद अर्जेंटीना के प्रशंसकों ने भुलाई देश की आर्थिक हालत, चिंताजनक हैं हालात

अर्जेंटीना की टीम ओपन-टॉप बस से अपने प्रशंसकों के साथ जश्न मना रही थी। इस दौरान जम कर आतिशबाजी हुई जिससे कतर में आधी रात को आकाश जगमगा गया। हजारों लोगों ने जीत का जश्न तो मनाया ही, अर्जेटीना का राष्ट्रीय दिवस भी मनाया। एक जीत ने देश के आर्थिक संकट को काफी हद तक भुला दिया।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

अर्जेंटीना 2018 से आर्थिक संकट में फंसा हुआ है और अभी भी पूरी तरह से उबरा नहीं है। लेकिन कतर की सड़कों पर आम आदमी और महिला के लिए इसे समझना काफी कठिन है। बढ़ती कीमतें, मुद्रास्फीति और संकट को रोकने के लिए बार-बार सरकार द्वारा घोषित नीतिगत बदलाव, अर्जेंटीना के लोगों के लिए रोजमर्रा की खबरें हैं। ऐसे में तीसरी बार फीफा विश्व कप ट्रॉफी जीतने वाली राष्ट्रीय टीम की खबर से बेहतर देश के लिए कुछ नहीं है।

रविवार को अर्जेंटीना की जीत के बाद कतर में बुलेवार्ड में कतार में खड़े प्रशंसकों में आर्थिक चिंता दूर-दूर तक नजर नहीं आ रही थी।

अर्जेटीना की टीम ओपन-टॉप बस से अपने प्रशंसकों के साथ जश्न मना रही थी। इस दौरान जम कर आतिशबाजी हुई जिससे कतर में आधी रात को आकाश जगमगा गया। हजारों लोगों ने जीत का जश्न तो मनाया ही, अर्जेटीना का राष्ट्रीय दिवस भी मनाया। एक जीत ने देश के आर्थिक संकट को काफी हद तक भुला दिया।

अपने देश में उन्हें मुद्रा विनिमय दरों के बारे में चिंता करनी पड़ती है, लेकिन कतर में ये बातें उनके मन से कोसों दूर थी। अर्जेटीना से करीब 40,000 लोग मैच देखने कतर आए थे, कईयों को तो टिकट नहीं मिला। लेकिन उत्सव में शामिल होने के लिए सभी दुख और निराशाओं को हवा में फेंक दिया।

कतर के लुसैल स्टेडियम में विश्व कप में अपनी जीत पर अर्जेटीना के प्रशंसकों की प्रतिक्रिया साझा करने के लिए कुछ लोगों ने सोशल मीडिया का सहारा लिया।


उनमें से एक अर्जेंटीना के व्यवसायी और सेलिब्रिटी निको बोल्जि़को थे जिन्होंने इंस्टाग्राम पर लिखा, "हम फुटबॉल खेलते हुए बड़े हुए हैं, भले ही आप इसमें अच्छे या बुरे हों। आपके पिता सबसे पहले आपको बचपन में स्टेडियम ले जाते हैं, जो आपकी कुछ बेहतरीन यादें फुटबॉल के बारे में हैं। हम घंटों फुटबॉल के बारे में बात करते हैं; हम फुटबॉल के लिए रोते हैं; फुटबॉल हमारी संस्कृति और डीएनए का एक अहम हिस्सा है।"

अन्य लोगों ने छह गोल के फाइनल को 'रोलरकोस्टर' कहा। ब्यूनस आयर्स के अगस्टिन रोंजोनी ने कहा, "यह एक रोलरकोस्टर मैच था। अर्जेटीना स्पष्ट रूप से शुरू से 79 वें मिनट तक मैच में हावी रहा, जब काइलियन एम्बाप्पे ने फ्रांस को गेम में वापस ला दिया। उन्होंने दो बैक-टू-बैक गोल किए। जब हमने एक्सट्रा टाइम में लीड ली तो फ्रांस ने फिर बराबरी कर ली। वह दर्द और पीड़ा थी। अर्जेंटीना ने मेसी के चारों ओर रैली की और हमारे पास एक गोलकीपर था जो दबाव में भी खड़ा था। यह विश्व कप मेसी के लिए है।

अमेरिका में रहने वाले अर्जेंटीना के डैलिओ बेलौट के लिए यह नीदरलैंड के खिलाफ क्वार्टर फाइनल में जो हुआ उसका एक रिपीट शो था। उन्होंने कहा, दोनों खेल काफी समान थे। हर बार, हम हावी थे और दो लक्ष्यों का नेतृत्व किया, दो को स्वीकार किया, और फिर पेनल्टी पर जीत हासिल की। फ्रांस एक महान टीम है। अंत में, हमने कोशिश करने और लीड को सुरक्षित करने के लिए पांच खिलाड़ियों को बचाव में रखा। लेकिन यह काम नहीं किया। प्रतिभा के मामले में फ्रांस एक बेहतर टीम हो सकती है। लेकिन हमारी मानसिकता और जमीनी समर्थन असाधारण से परे था।

कुछ प्रशंसकों को लगा कि सऊदी अरब के खिलाफ पहले मैच में 2-1 की हार एक आशीर्वाद के रूप में आई।

सऊदी अरब ने हमें जगा दिया और तब से हमारी टीम एक टीम की तरह खेली। अंत में देखें तो सऊदी अरब से हार हमारे लिए सबसे अच्छी बात साबित हुई।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;