खेल की 5 बड़ी खबरें: गांगुली बोले-अभी मैं जवान हूं, ICC चेयरमैन बनने की जल्दी नहीं और इस फुटबॉलर ने लिया संन्यास

सौरव गांगुली ने कहा कि उन्हें आईसीसी चेयरमैन बनने की कोई जल्दी नहीं है। ICC के अध्यक्ष के रूप में उनका भविष्य पूरी तरह से BCCI के निर्णय पर निर्भर करता है और क्रिस्टल पैलेस और एस्टन विला के पूर्व आस्ट्रेलियाई मिडफील्डर माइल जेडिनेक ने फुटबॉल से संन्यास लेने की घोषणा की है।

फोटो: Getty Images
फोटो: Getty Images
user

नवजीवन डेस्क

मैं अभी जवान हूं, ICC चेयरमैन बनने की जल्दी नहीं :सौरव गांगुली

शशांक मनोहर के इस्तीफे के बाद टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ICC चेयरमैन पद के लिए मजबूत दावेदारों में शामिल हैं, लेकिन गांगुली का कहना है कि उन्हें आईसीसी चेयरमैन बनने की कोई जल्दी नहीं है। सौरव गांगुली ने कहा कि ICC के अध्यक्ष के रूप में उनका भविष्य पूरी तरह से BCCI के निर्णय पर निर्भर करता है। सौरव गांगुली ने निजी चैनल से बात करते हुए कहा, 'मुझे नहीं पता कि यह सही है या नहीं कि मुझे इस हालात में बीसीसीआई को बीच में ही छोड़ने की इजाजत होगीमैं किसी जल्दी में नहीं हूं। मैं अभी युवा हूं और आप इस जॉब को हमेशा नहीं करते रह सकते हैं। ये मानद नौकरियां हैं जो आप अपने जीवनकाल में एक बार करते हैं।'

इसे भी पढ़ें- वनडे में वापसी करना चाहते हैं रहाणे और इंग्लैंड के इस दिग्गज फुटबॉलर का निधन

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

आस्ट्रेलिया के जेडिनेक ने फुटबाल से लिया संन्यास

क्रिस्टल पैलेस और एस्टन विला के पूर्व आस्ट्रेलियाई मिडफील्डर माइल जेडिनेक ने फुटबाल से संन्यास लेने की घोषणा की है। 35 वर्षीय खिलाड़ी ने अपने आधिकारिक इंस्टाग्राम पर इसकी जानकारी दी। उन्होंने लिखा, "मैं पश्चिमी सिडनी का एक युवा लड़का था, जिसका सपना पेशेवर फुटबाल खेलना था। उस लक्ष्य तक पहुंचने के लिए मेरी यात्रा काफी सारे अनुभवों, चुनौतियों और यादों से भरी है, जिसे मैं हमेशा याद रखूंगा। मैं उन सभी क्लबों को धन्यवाद देना चाहता हूं, जिन्होंने मुझे ऐसा करने का मौका दिया।" जेडिनेक ने साथ ही कोच, स्पोर्ट स्टाफ और अपने परिवार के प्रति भी आभार जताया। उन्होंने कहा, "कोच, स्टाफ, टीम के साथी, समर्थक आप सभी ने अपनी भूमिका निभाई, इसलिए आपका धन्यवाद। वर्षों तक मेरा साथ देने के लिए मेरे पूरे परिवार का भी बहुत-बहुत धन्यवाद। मेरे सपनों का पूरा करने के लिए मेरे माता-पिता ने मेरे अंदर विश्वास दिखाया।"

फोटो: IANS
फोटो: IANS

गावस्कर ने नासिर के 'भारतीय टीम विनम्र' बयान को बकवास बताया

दिग्गज क्रिकेटर सुनील गावस्कर ने इंग्लैंड के पूर्व कप्तान नासिर हुसैन के उस बयान की कड़ी आलोचना की है, जिसमें उन्होंने कहा था कि सौरव गांगुली के कप्तान बनने से पहले भारतीय टीम 'ज्यादा मुश्किल टीम' नहीं थी। गावस्कर ने मिड डे के लिए कॉलम में लिखा, " नासिर (हुसैन) यह कह गए हैं कि इससे पहले की टीम अपने प्रतिद्वंद्वियों को गुड मॉर्निग कहती थी और उन्हें देखकर मुस्कुराती थी? यह धारणा देखिए-अगर आप किसी के साथ अच्छे से पेश आते हैं तो आप कमजोर हैं। जब तक आप प्रतिद्वंद्वियों के मुंह पर नहीं चढ़ जाते, तब तक आप मजबूत नहीं हैं।" उन्होंने कहा, "क्या वह यह सलाह देना चाह रहे हैं कि सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़, वीरेंद्र सहवाग, वीवीएस लक्ष्मण, अनिल कुंबले और हरभजन सिंह जैसे नाम मजबूत नहीं थे? सिर्फ इसीलिए कि वह किसी से मतलब रखे बिना सिर्फ अपने काम पर ध्यान देते थे? छातियां नहीं पीटते थे, मैदान पर चीखते-चिल्लाते नहीं थे, क्या इसीलिए वे कमजोर थे?।"

फोटो: IANS
फोटो: IANS

इंग्लैंड को डेनली पर कोई फैसला करना होगा :माइकल वॉन

इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेट कप्तान माइकल वॉन का मानना है कि खराब फॉर्म से जूझ रहे बल्लेबाज जोए डेनली को वेस्टइंडीज के खिलाफ होने वाले दूसरे टेस्ट के लिए कप्तान जो रूट के लिए जगह देनी चाहिए। डेनली एजेस बाउल में वेस्टइंडीज के खिलाफ जारी पहले टेस्ट मैच की पहली और दूसरी पारी में क्रमश : 18 और 19 रन ही बना सके। उन्होंने पिछली आठ पारियों में एक भी अर्धशतक नहीं लगाया है। डेनली ने इंग्लैंड के लिए अब तक 14 टेस्ट मैच खेले हैं और वह एक भी शतक नहीं बना पाए हैं। दूसरी तरफ, जैक क्रॉवले दूसरी पारी में 76 रनों के साथ शीर्ष स्कोरर रहे। वॉन ने बीबीसी से कहा, "आप यह कह सकते हैं कि डेनली बेहद भाग्यशाली रहे हैं कि उन्होंने 15 टेस्ट मैच खेला। यहां पर काफी खिलाड़ी हैं जिन्होंने सिर्फ आठ टेस्ट खेले और शतक जमाया। डेनली ने अपना मौका गंवा दिया है। क्रॉवले को पूरा मौका दिया जाना चाहिए। मुझे डेनली के लिए दुख है-उनका स्तर वैसा नहीं है।"

फोटो: IANS
फोटो: IANS

खिलाड़ियों को समाज में ऊंचा स्थान मिलना चाहिए : रिजिजू

केंद्रीय खेल मंत्री किरिण रिजिजू ने कहा है कि जिन लोगों ने अपनी जिंदगी खेल और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर देश का प्रतिनिधित्व करने में समर्पित कर दी, उन्हें भी वही सम्मान मिलना चाहिए जो पदक विजेताओं को मिलता है। भारतीय एथलेटिक्स महासंघ (एएफआई) द्वारा पूर्व मुख्य कोच बहादुर सिंह के लिए आयोजित की गई वर्जुअल फेयरवेल पर रिजिजू ने कहा कि केंद्रीय सरकार हर उस खिलाड़ी की मदद करने को तैयार है जिसने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत का प्रतिनिधित्व किया है। उन्होंने उम्मीद जताई है कि राज्य सरकार भी इस तरह मदद का हाथ बढ़ाएगी।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

लोकप्रिय
next