खेल की 5 बड़ी खबरें: गुरु पूर्णिमा पर सचिन ने 3 लोगों को किया याद और दूसरी बार क्रिकेटर ऑफ द ईयर बने डी कॉक

सचिन तेंदुलकर ने रविवार को गुरुपूर्णिमा के अवसर पर उन तीनों लोगों को याद किया है, जिन्होंने उनका करियर बनाने में मदद की और दक्षिण अफ्रीका के खिलाड़ी क्विंटन डी कॉक को शनिवार को दूसरी बार दक्षिण अफ्रीका का पुरुष क्रिकेटर ऑफ द ईयर चुना गया।

फोटो : Getty Images
फोटो : Getty Images
user

नवजीवन डेस्क

गुरु पूर्णिमा पर सचिन तेंदुलकर ने इन 3 लोगों को किया याद

महान बल्लेबाजों में गिने जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने रविवार को गुरुपूर्णिमा के अवसर पर उन तीनों लोगों को याद किया है, जिन्होंने उनका करियर बनाने में मदद की। सचिन ने गुरु पूर्णिमा के मौके पर ट्विटर पर एक वीडियो पोस्ट किया है जिसमें वो बल्ला पकड़े दिखाई दे रहे हैं। इस वीडियो में सचिन ने कहा, "मैं जब भी बल्ला पकड़ता हूं तो मैं उन तीन लोगों को याद करता हूं जिन्होंने मेरा करियर बनाने में मेरी मदद की।" सचिन ने पहले अपने भाई और अपने कोच रमाकांत आचरेकर का नाम लिया। उन्होंने कहा, "एक चीज मैं जानता हूं कि जब भी मैं बल्लेबाजी करने गया तब मेरा भाई मेरे पास शारीरिक रूप से मौजूद नहीं था, लेकिन वो मानसिक रूप से मौजूद जरूर था। इसलिए मैं जब भी बल्लेबाजी करने जाता था तो मैं जानता था कि मेरा भाई मेरे साथ है।"

सचिन ने इसके बाद कहा, "मैं आचरेकर सर के बारे में क्या कह सकता हूं। उन्होंने जितने घंटे मेरी बल्लेबाजी पर बिताए हैं, नोट्स बनाए हैं। चाहे वो मैच को लेकर हों या अभ्यास सत्र को लेकर। वह हमेशा से गलतियां नोट करते थे और उन चीजों को नोट करते थे जिनमें मुझे सुधार करना होता था।" सचिन ने कहा कि वह तीसरे शख्स उनके पिता हैं। उन्होंने कहा, "तीसरे इंसान मेरे पिता हैं, जिन्होंने मुझे बताया है कि कभी शॉर्टकट मत लेना। अपने आप को अच्छे से तैयार करो और सबसे अहम अपनी मान्यताओं का निरादर मत करो। मैं इन तीनों के बारे मे चाहे जितनी भी बात करूं कम ही है।"

इसे भी पढ़ें- वर्ल्ड कप की मेजबानी को लेकर चिंता में ऑस्ट्रेलिया और NBA के 9 और खिलाड़ी कोरोना पॉजिटिव

दूसरी बार दक्षिण अफ्रीका के क्रिकेटर ऑफ द ईयर बने डी कॉक

दक्षिण अफ्रीका के सीमित ओवरों के कप्तान क्विंटन डी कॉक को शनिवार को दूसरी बार दक्षिण अफ्रीका का पुरुष क्रिकेटर ऑफ द ईयर चुना गया। उनके अलावा लॉरा वोल्वार्डट, दक्षिण अफ्रीकी महिला क्रिकेटर ऑफ द ईयर चुनी गईं। डी कॉक को टेस्ट क्रिकेटर ऑफ द ईयर और खिलाड़ियों का प्लेयर ऑफ द ईयर भी दिया गया। डी कॉक को दूूसरी बार दक्षिण अफ्रीका का क्रिकेटर ऑफ द ईयर चुना गया है। वह इस पुरस्कार को दूसरी बार पाने वाले दक्षिण अफ्रीका के छठे खिलाड़ी हैं। डी कॉक से पहले दो यह पुरस्कार पाने वाले खिलाड़ियों में जैक्स कैलिस (2004 और 2011), मखाया एनटीनी (2005 और 2006), हाशिम अमला (2010 और 2013), एबी डिविलियर्स (2014 और 2015) और कगिसो रबाडा (2016 और 2018) शामिल हैं।

फोटो: IANS
फोटो: IANS

नेटवेस्ट सीरीज के फाइनल के बाद टीम आवेश में आ गई थी :गांगुली

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने कहा है कि उनकी कप्तानी वाली जिस टीम ने 2002 में नेटवेस्ट सीरीज में ऐतिहिासिक जीत हासिल की थी उस जीत के बाद टीम ने आवेश में आ गई थी। भारत ने 13 जुलाई 2002 को गांगुली की कप्तानी में इंग्लैंड द्वारा रखे गए 326 रनों के लक्ष्य को सफलतापूर्वक हासिल किया था और जीत दर्ज की थी। इस मैच में मोहम्मद कैफ ने नाबाज 87 और युवराज सिंह ने 69 रनों की पारी खेली थी। दोनों ने अहम समय पर बेहतरीन साझेदारी कर टीम को जीत दिलाई थी। बीसीसीआई के मौजूदा अध्यक्ष ने टेस्ट टीम के सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल के साथ बात करते हुए कहा, "वो शानदार पल था। हम आपे से बाहर हो गए थ, लेकिन यही खेल है। जब आप इस तरह के मैच जीतते हो तो आप ज्यादा जश्न मनाते हो। वो महान मैचों में से एक है जिनका मैं हिस्सा रहा।"

फोटो: IANS
फोटो: IANS

कोहली के खिलाफ शिकायत BCCI को राह से भटकाने की कोशिश

संजीव गुप्ता का बीसीसीआई के एथिक्स अधिकारी डी.के. जैन को पत्र लिखकर विराट कोहली के व्यवसाय को लेकर शिकायत करना और यह कहना कि यह लोढ़ा समिति की सिफारिशों का उल्लंघन है, यह बात बोर्ड के अधिकारियों को रास नहीं आई और उनका मानना है कि इस तरह की शिकायतें प्रेरित हैं। बोर्ड के एक अधिकारी ने आईएएनएस से बात करते हुए बीते कुछ वर्षो से आ रही शिकयातों को लेकर कहा कि इनका पैटर्न एक है और साथ ही कहा है कि यह उथल-पुथल मचाने और उन लोगों को ब्लैकमेल करने की कोशिश है जिन्होंने देश के लिए काफी कुछ किया है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS

वॉर्नर का टीम में होना ऐसा, जैसे फ्लॉयड मेवेदर टीम में हों:जस्टिन लैंगर

ऑस्ट्रेलियाई कोच जस्टिन लैंगर ने रविवार को डेविड वॉर्नर की तुलना महान मुक्केबाज फ्लॉयड मेवेदर से की और उन्हें ऐसा आक्रामक खिलाड़ी बताया जो 2018 में गेंद से छेड़छाड़ प्रकरण के कारण कभी भी नेतृत्वकर्ता नहीं बन पाएगा। मार्च 2018 में तब के कप्तान स्टीव स्मिथ और उप-कप्तान वॉर्नर को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट मैच में हुई इस गेंद से छेड़छाड़ की घटना के लिए एक साल का प्रतिबंध झेलना पड़ा। लैंगर ने ‘चैनल नाइन’ टीवी के ‘स्पोर्ट्स संडे’ कार्यक्रम में अमेरिका के महान मुक्केबाज का जिक्र किया जो अपनी 50 पेशेवर करियर बाउट में एक बार भी नहीं हारे और पांच वजन वर्गों में उनके नाम 15 बड़े विश्व खिताब हैं।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia