अपराध

नीतीश के सुशासन में अपराधियों का बोलबाला, 24 घंटे के अंदर गया-नवादा में पांच लोगों की हत्या

मख्यमंत्री नीतीश कुमार के सरकार में बिहार में अपराधी बेखौैफ हैं। हर दिन हत्या, लूट और अपहरण की खबरेें आ रही हैं। सूबे के नवादा और गया जिले के अलग-अलग क्षेत्रों से पुलिस ने बुधवार को पांच युवकों के शव बरामद किए हैं।

प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

आईएएनएस

बिहार के नवादा और गया जिले के अलग-अलग क्षेत्रों से पुलिस ने बुधवार को पांच युवकों के शव बरामद किए हैं। इनमें 24 मई की शाम अगवा किए गए तीनों युवकों के शव भी शामिल हैं। पुलिस के अनुसार, गया जिले के शेरघाटी थाना क्षेत्र से पुलिस ने बुधवार को दो युवकों के शव बरामद किए हैं।

शेरघाटी के थाना प्रभारी उदय शंकर ने बताया, "ग्रामीणों की सूचना के बाद पुलिस ने पंडौल गांव के समीप नहर के पास से दो युवकों का क्षत-विक्षत शव बरामद किया है। दोनों की उम्र 25 से 30 वर्ष के बीच बताई जा रही है।" उन्होंने बताया कि प्रथम दृष्टया आशंका है कि हत्या किसी अन्य स्थान पर करके शव यहां फेंक दिया गया है। हत्या में धारदार हथियार का उपयोग किया गया है, क्योंकि शरीर के कई हिस्से में कटे का निशान है। उन्होंने आगे बताया कि अब तक शवों की पहचान नहीं हो पाई है।

इधर, नवादा जिले के कौआकोल थाना क्षेत्र से 24 मई से अगवा तीन युवकों का शव जंगली क्षेत्र से बरामद किया गया है। कौआकोल के थाना प्रभारी मनोज कुमार ने यहां बताया कि जमुई के सिकंदरा के रहने वाले अगवा तीनों युवकों का शव कौआकोल के भोरमबाग पहाड़ से बरामद किया गया है। शव देखने से स्पष्ट है कि तीनों की हत्या बेरहमी से धरदार हथियार से की गई है।

पुलिस ने आशंका जताते हुए कहा कि तीनों युवकों की हत्या 24 मई को ही कर दी गई थी। पुलिस हालांकि अपहरण और हत्या के कारणों का अब तक खुलासा नहीं कर सकी है। उल्लेखनीय है कि 24 मई को सिकंदरा के रहने वाले राजकुमार उर्फ पल्लू, जितेंद्र कुमार और विक्की कुमार एक साथ दो बाइकों से कौआकोल से वापस सिकंदरा लौट रहे थे, कहा जा रहा है कि तभी कौआकोल-पकरीबरामा मार्ग पर कगहर मोड़ के पास से इन तीनों का अपहरण कर लिया गया था। बाद में तीनों की हत्या कर दी गई।

थाना प्रभारी ने कहा कि पुलिस ने पूरे मामले की छानबीन प्रारंभ कर दी है। फिलहाल हत्या के कारणों का पता नहीं चल सका है।

लोकप्रिय