जवानों की शहादत पर फूटा पूर्व सैन्य अधिकारियों का गुस्सा, चीनी दूतावास के बाहर प्रदर्शन, हिरासत में लिया गया

पूर्वी लद्दाख में एलएसी के पास कई दिनों से जारी गतिरोध के बीच सोमवार देर रात चीनी सेना द्वारा भारतीय जवानों पर हमला किया गया, जिसमें भारतीय सेना के अनुसार अधिकारियों समेत 20 जवान शहीद हो गए। चीनी सेना के साथ हुई इस हिंसक झड़प में भारतीय सेना के कई जवान ‘गंभीर रूप से घायल’ हुए हैं।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ झड़प में भारतीय जवानों की शहादत पर आज राजधानी दिल्ली में पूर्व सैन्य अधिकारियों का गुस्सा फूट पड़ा। शहीद वेलफेयर फाउंडेशन के प्रतिनिधित्व में कई पूर्व सैन्य अधिकारी चीनी दूतावास के बाहर इकट्ठे हो गए और विरोध-प्रदर्शन करने लगे। बाद में इसमें स्वदेशी जागरण मंच के सदस्य भी शामिल हो गए। काफी समझाने-बुझाने के बाद पुलिस ने प्रदर्शकारी सेना के पूर्व अधिकारियों और स्वदेशी जागरण मंच के सदस्यों को हिरासत में ले लिया।

इसे भी पढ़ें: LAC पर 20 जवानों की शहादत के खिलाफ PM मोदी के संसदीय क्षेत्र समेत कई जगहों पर प्रदर्शन

ये सभी लोग सोमवार देर रात पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सेना पीएलए द्वारा भारतीय सेना के 20 जवानों की हत्या से नाराज थे और अपना विरोध जता रहे थे। स्वदेशी जागरण मंच के सदस्य शुरुआत में तीन मूर्ति पुलिस स्टेशन के बाहर विरोध जता रहे थे, लेकिन फिर विरोध करने के लिए दूतावास की ओर चले गए, जहां पहले पूर्व सैन्य अधिकारी प्रदर्शन करने के लिए एकत्र हुए थे। भीड़ बढ़ता देख पुलिस ने सभी को हिरासत में ले लिया और वहां से हटा दिया।

इसे भी पढ़ें: लद्दाख में 20 जवानों की शहादत पर राहुल का सवाल, पीएम बताएं चीन की हिम्मत कैसे हुई ऐसा करने की

सोमवार देर रात हुई इस दुखद घटना के बाद बुधवार को रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने शहीद हुए जवानों के परिवारों के प्रति अपनी संवेदना जताई। राजनाथ सिंह ने ट्वीट किया, "गलवान में सैनिकों को खोना बहुत ही परेशान करने वाला और दर्दनाक है। हमारे सैनिकों ने अनुकरणीय साहस और वीरता का परिचय दिया और भारतीय सेना की सर्वोच्च परंपराओं का पालन करते हुए अपने जीवन का बलिदान दिया।"

बता दें कि पूर्वी लद्दाख में एलएसी के करीब गालवान घाटी में कई दिनों से दोनों देशों के बीच जारी गतिरोध के बीच सोमवार देर रात चीनी सेना द्वारा भारतीय जवानों पर हमला किया गया, जिसमें भारतीय सेना के अनुसार अधिकारियों समेत 20 जवान शहीद हो गए। चीनी सेना के साथ हुई इस हिंसक झड़प में भारतीय सेना के कई जवान 'गंभीर रूप से घायल' हुए हैं और उनका इलाज चल रहा है। हताहतों की संख्या अभी और बढ़ सकती है। सरकारी सूत्रों ने कहा कि गंभीर रूप से घायल जवानों की संख्या भी दोहरे अंकों में है। हालांकि, भारतीय सेना ने संख्या पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया और कहा कि कई जवान घायल हैं।

दूसरी ओर न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, एलएसी पर भारत और चीन के बीच हुई झड़प में चीन के भी करीब 40 सैनिक हताहत हुए हैं। हालांकि चीन ने अभी इस बात को स्वीकार नहीं किया है। सूत्रों के हवाले से एएआई की खबर के अनुसार हिंसक भिडंत में चीनी सेना को भारी नुकसान पहुंचा है। गलवान के उपर चीनी हेलिकॉप्टरों को उड़ते देखा गया है। गलवान नदी के किनारे चीनी पोस्ट की तरफ एंबुलेंस की आवाजाही देखी गई है। ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि इस झड़प में चीन को काफी नुकसान हुआ है।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

लोकप्रिय
next