'अच्छे दिनों' का सपना दिखाकर जनता को उपहार में दी गई महंगाई, मोदी सरकार के लिए सबसे जरूरी काम मित्रों की भलाई'

कांग्रेस ने कहा कि मोदी सरकार को आम जनता की परेशानियों से कोई सरोकार नहीं है। उनका सारा ध्यान अपने मित्रों की भलाई करने में है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

रवि प्रकाश

कांग्रेस ने महंगाई को लेकर मोदी सरकार पर एकबार फिर से निशाना साधा है। पार्टी ने गुरुवार को कहा कि जनता को 'अच्छे दिनों' का सपान दिखाया गया, लेकिन उन्हें उपहार में महंगाई मिली है। कांग्रेस ने कहा कि जनता आज महंगाई से त्रस्त है और कांग्रेस के सच्चे दिनों को याद कर रही है। बता दें कि देश में महंगाई दर लगातार आठवें महीने भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के तय लक्ष्य सीमा से ऊपर बनी हुई है। सरकार ने महंगाई दर को दो से 6 फीसदी के दायरे में रखने का लक्ष्य निर्धारित किया है, लेकिन तमाम कोशिशों के बाद भी महंगाई इससे ऊपर बनी हुई है।

'आज कांग्रेस के सच्चे दिनों को याद कर रही जनता'

कांग्रेस ने कहा कि पहले लोगों की कमाई ज्यादा होती थी और अपनी जरूरतों पर खर्च करने का बाद भी बचत भी कर लेते थे, लेकिन अब कमाई कम हो गई है और खर्च ज्यादा करना पड़ा रहा है। ऐसे में लोगों के लिए घर चलाना भी मुश्किल हो रहा है। पार्टी ने ट्वीट कर कहा, 'अच्छे दिनों' का सपना दिखाकर जनता को उपहार में महंगाई दी गई है। आज महंगाई से त्रस्त जनता कांग्रेस के सच्चे दिनों को याद कर रही है- जब लोग कमाते भी ज्यादा थे और जरूरतों पर खर्च करने के बाद बचा भी लेते थे।' पार्टी ने एक फोटो भी शेयर किया है जिसमें मनमोहन सरकार और मोदी सरकार के दौरान थोक महंगाई दर के आंकड़े दर्शाए गए हैं। अगस्त 2013 में थोक महंगाई दर 6.1 फीसद रही थी, वहीं अगस्त 2022 में यह बढ़कर 12.41 फीसद हो गई।

'अपने मित्रों का भला करने में लगी है मोदी सरकार'

पार्टी ने थोक महंगाई दर के मुद्दे पर भी मोदी सरकार पर हमला बोला है। कांग्रेस ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण पर निशाना साधते हुए कहा, 'कुछ दिन पहले वित्त मंत्री ने कहा था कि महंगाई उनके लिए चिंता का बड़ा विषय नहीं है। जबकि सच्चाई तो यह है कि थोक महंगाई लगातार 17 महीने से दहाई अंक में बनी हुई है।' कांग्रेस ने कहा कि मोदी सरकार को आम जनता की परेशानियों से कोई सरोकार नहीं है। उनका सारा ध्यान अपने मित्रों की भलाई करने में है। पार्टी ने ट्वीट कर लिखा, 'मोदी सरकार को आम जनता की समस्याओं से कोई लेना देना नहीं है, वो तो सिर्फ अपना और अपने मित्रों का भला करने में लगी है।'


खुदरा महंगाई दर RBI के तय सीमा से ऊपर

गौरतलब है कि खुदरा महंगाई दर पिछले आठ महीने से भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के तय सीमा से ऊपर बनी हुई है। इससे पहले जुलाई महीने में खुदरा महंगाई में कमी दर्ज की गई थी और यह 6.71 फीसदी पर आ गई थी। इससे पहले जून में खुदरा महंगाई दर 7.01 फीसदी, मई में 7.04 फीसदी और अप्रैल में 7.79 फीसदी रही थी। वहीं थोक महंगाई दर बीते 17 महीनों से दहाई अंक में बनी हुई है। हालांकि अगस्त में इसमें थोड़ी गिरावट दर्ज की गई थी लेकिन अब भी यह दोहरे अंक में ही है।

थोक भाव पर आधारित महंगाई दर अगस्त महीने में 12.41 फीसदी पर आ गई। जुलाई में थोक महंगाई दर 13.93 फीसदी थी। ध्यान देने वाली बात यह भी है यह लगातार 17वां महीना है जब थोक महंगाई दर डबल डिजिट में बनी हुई है। इस साल मई में थोक महंगाई ने 15.88 फीसदी की रिकॉर्ड ऊंचाई को छुआ था।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia