कर्नाटक कांग्रेस प्रमुख डी.के. शिवकुमार बोले- आप देखेंगे कि 10 मार्च को गोवा में क्या होगा

गोवा जाने से पहले कर्नाटक कांग्रेस अध्यक्ष डी.के. शिवकुमार ने मंगलवार को बेंगलुरु में कहा, "आप देखेंगे कि 10 मार्च को गोवा में क्या होगा।" विधानसभा चुनाव के नतीजे 10 मार्च को घोषित होने जा रहे हैं।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

कर्नाटक कांग्रेस अध्यक्ष डी.के. शिवकुमार राज्य में त्रिशंकु विधानसभा की स्थिति को संभालने के लिए मंगलवार शाम गोवा के लिए रवाना होंगे। तटीय राज्य जाने से पहले उन्होंने मंगलवार को बेंगलुरु में कहा, "आप देखेंगे कि 10 मार्च को गोवा में क्या होगा।" विधानसभा चुनाव के नतीजे 10 मार्च को घोषित होने जा रहे हैं।

उन्होंने कहा, "मुझे अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) द्वारा गोवा जाने का निर्देश दिया गया है और मैं जा रहा हूं। पार्टी ने मुझे एक जिम्मेदारी दी है। मैं पार्टी कार्यकर्ता के रूप में गोवा जाऊंगा।" उन्होंने कहा कि उन्हें एग्जिट पोल पर भरोसा नहीं है। उत्तर प्रदेश को छोड़कर बाकी सभी राज्यों में कांग्रेस की जीत होने वाली है।


शिवकुमार का रात 8 बजे बेंगलुरु से निकलने का कार्यक्रम है। मंगलवार को और रात 9.30 बजे गोवा पहुंचेंगे। सूत्रों ने कहा कि कांग्रेस इस बार पिछले अनुभव से सीख लेते हुए कोई जोखिम नहीं उठा रही है।

शिवकुमार नई सरकार बनने तक गोवा में डेरा डालने जा रहे हैं। शिवकुमार के करीबी सूत्रों ने कहा कि वह गोवा में कांग्रेस सरकार स्थापित करने के लिए अधिकतम प्रयास करेंगे। "यह शिवकुमार के लिए आलाकमान को प्रभावित करने का एक अवसर है, जो उन्हें प्रतिष्ठित पद के करीब एक कदम आगे ले जाएगा।"


एबीपी-सी-वोटर के एग्जिट पोल में बीजेपी को 12 से 16 और कांग्रेस को 13 से 17 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है। हालांकि कांग्रेस 2017 के विधानसभा चुनावों में 17 सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी, लेकिन बीजेपी ने मौके का फायदा उठाया और गोवा में सरकार बनाने में कामयाब रही। भाजपा ने तब केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी को संकटमोचक के रूप में प्रतिनियुक्त किया था।

कर्नाटक के पूर्व मंत्री और एआईसीसी गोवा डेस्क के प्रभारी दिनेश गुंडू राव ने कहा है कि अगर उनकी पार्टी 21 सीटों के बहुमत के निशान से कम होती है, तो वह आम आदमी पार्टी (आप), महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (एमजीपी) और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) से सरकार बनाने के लिए समर्थन मांगेगी।

एक कुशल रणनीतिकार और साधन संपन्न व्यक्ति माने जाने वाले शिवकुमार को पार्टी के लिए एक बड़ा फायदा बताया जाता है। शिवकुमार ने कांग्रेस-जद (एस) गठबंधन सरकार को स्थापित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी, यहां तक कि भाजपा कर्नाटक में सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी थी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia