SP-RLD ने की 'आदिपुरुष' पर बैन लगाने की मांग, बोले- बीजेपी नेताओं को देश से माफी मांगनी चाहिए माफी

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव शिवपाल यादव ने कहा कि भगवान राम के महान और प्रेरक चरित्र और उनकी कहानी को सिनेमा के माध्यम से 'सस्ते और सतही संवादों' के माध्यम से कम करने का प्रयास किया जा रहा है।

फिल्म 'आदिपुरुष' का पोस्टर
फिल्म 'आदिपुरुष' का पोस्टर
user

नवजीवन डेस्क

'आदिपुरुष' फिल्म को लेकर जारी विवाद लगातार बढ़ता जा रहा है। समाजवादी पार्टी (सपा) और राष्ट्रीय लोकदल (आरएलडी) ने 'आदिपुरुष' के खिलाफ हाथ मिला लिया है और फिल्म पर बैन लगाने के साथ ही इसके निर्माताओं से माफी मांगने की मांग की है। दोनों पार्टियों ने फिल्म को उसके सस्ते और सतही डायलॉग्स के लिए फटकार लगाई है। दोनों दलों ने कहा है कि यह एक एजेंडा का हिस्सा था। सपा ने इस मुद्दे पर सत्तारूढ़ बीजेपी पर भी हमला बोला।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि सेंसर बोर्ड को अपने राजनीतिक आकाओं के पैसे से एजेंडे के साथ फिल्में बनाकर लोगों की आस्था से खिलवाड़ करने वालों के 'राजनीतिक चरित्र प्रमाण पत्र' की जांच करनी चाहिए। सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने ट्वीट में सवाल किया क्या सेंसर बोर्ड धृतराष्ट्र हो गया है?


समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव शिवपाल यादव ने कहा कि भगवान राम के महान और प्रेरक चरित्र और उनकी कहानी को सिनेमा के माध्यम से 'सस्ते और सतही संवादों' के माध्यम से कम करने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि करोड़ों सनातनी श्रद्धालु आहत हुए हैं और इस कृत्य के लिए तथाकथित सनातनी बीजेपी नेताओं को देश से माफी मांगनी चाहिए।

सपा के राष्ट्रीय महासचिव स्वामी प्रसाद मौर्य, जिन्होंने इस साल की शुरूआत में रामचरितमानस (भगवान राम पर एक प्राचीन महाकाव्य) पर जातिगत भेदभाव का आरोप लगाकर विवाद खड़ा कर दिया था, उन्होंने भी फिल्म को लेकर बीजेपी पर हमला किया।


स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा, मनोज मुंतशिर और ओम राउत द्वारा पात्रों को जिस तरह की भाषा दी गई है, वह अशोभनीय है। क्या उन्होंने 'सनातन धर्म' का अपमान नहीं किया है? यदि हां, तो वे सभी कहां हैं, जिन्होंने मुझे सिर कलम करने की धमकी दी थी? सिर्फ इसलिए कि ये दोनों- मनोज मुंतशिर और ओम राउत- उच्च जाति के हैं?

राष्ट्रीय लोक दल (आरएलडी) ने मांग कर दी कि फिल्म पर प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए। आरएलडी प्रवक्ता ने कहा, फिल्म आदिपुरुष ने रामायण और सनातन धर्म की आस्था का मजाक उड़ाया है जो असहनीय है। फिल्म में अभद्र भाषा और दृश्यों ने धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाई है। हम फिल्म पर तत्काल प्रतिबंध की मांग करते हैं और निर्माताओं को इसके लिए माफी मांगनी चाहिए।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;