Results For "Global Hunger Index "

कई मोर्चों पर हम बुरी तरह पिछड़ रहे हैं, हंगर इंडेक्स तो बस बानगी भर है, यह है भारत बनाम इंडिया का एक और संकेत

विचार

कई मोर्चों पर हम बुरी तरह पिछड़ रहे हैं, हंगर इंडेक्स तो बस बानगी भर है, यह है भारत बनाम इंडिया का एक और संकेत

सरकार भले ही झुठलाती रहे, लेकिन हंगर इंडेक्स के आंकड़े तो सरकारी एजेंसियों के ही हैं

विचार

सरकार भले ही झुठलाती रहे, लेकिन हंगर इंडेक्स के आंकड़े तो सरकारी एजेंसियों के ही हैं

ओडिशा की सन्माई, झारखंड की पछिया और एमपी के प्रीतलाल की हालत देखे सरकार तभी समझ आएगी हंगर इंडेक्स की हकीकत

हालात

ओडिशा की सन्माई, झारखंड की पछिया और एमपी के प्रीतलाल की हालत देखे सरकार तभी समझ आएगी हंगर इंडेक्स की हकीकत

आकार पटेल का लेख: ग्लोबल हंगर इंडेक्स ही नहीं, बीते 7 साल में तो हम 4 दर्जन संकेतकों में पिछड़ चुके हैं...

विचार

आकार पटेल का लेख: ग्लोबल हंगर इंडेक्स ही नहीं, बीते 7 साल में तो हम 4 दर्जन संकेतकों में पिछड़ चुके हैं...

'न्यू इंडिया' में एक तरफ भुखमरी, कुपोषण तो दूसरी ओर अनाज की बर्बादी, लेकिन मोदी सरकार की नौटंकी में कोई कमी नहीं

विचार

'न्यू इंडिया' में एक तरफ भुखमरी, कुपोषण तो दूसरी ओर अनाज की बर्बादी, लेकिन मोदी सरकार की नौटंकी में कोई कमी नहीं

ग्लोबल हंगर इंडेक्स रिपोर्ट पर भड़की मोदी सरकार, जारी करने वाली एजेंसी के तरीके पर उठाया सवाल

हालात

ग्लोबल हंगर इंडेक्स रिपोर्ट पर भड़की मोदी सरकार, जारी करने वाली एजेंसी के तरीके पर उठाया सवाल

ग्लोबल हंगर इंडेक्स में भारत पिछड़कर 101वें स्थान पर गिरा, पाकिस्तान और नेपाल से भी नीचे पहुंचा

हालात

ग्लोबल हंगर इंडेक्स में भारत पिछड़कर 101वें स्थान पर गिरा, पाकिस्तान और नेपाल से भी नीचे पहुंचा

कोरोना का असर: अगले कुछ महीनों में 3 करोड़ से भी ज्यादा लोगों की हो सकती है मौत, इन 10 देशों को सबसे ज्यादा खतरा: UN

दुनिया

कोरोना का असर: अगले कुछ महीनों में 3 करोड़ से भी ज्यादा लोगों की हो सकती है मौत, इन 10 देशों को सबसे ज्यादा खतरा: UN

अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: AGR मामले में टेलिकॉम कंपनियों को आधी रात तक अदा करने होंगे 1.47 लाख करोड़ रुपये 

अर्थतंत्र

अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: AGR मामले में टेलिकॉम कंपनियों को आधी रात तक अदा करने होंगे 1.47 लाख करोड़ रुपये 

संवेदनहीन समाज और सरकारों की वजह से हो रही भूख से मौतेंः हर्ष मंदर

देश

संवेदनहीन समाज और सरकारों की वजह से हो रही भूख से मौतेंः हर्ष मंदर