Results For "Hindi Literature "

नहीं रहीं शीला संधू : हिंदी साहित्य को जन-जन तक पहुंचाने का बीड़ा उठाने वाली कर्मठ महिला

शख्सियत

नहीं रहीं शीला संधू : हिंदी साहित्य को जन-जन तक पहुंचाने का बीड़ा उठाने वाली कर्मठ महिला

फणीश्वर नाथ रेणु  की पुण्यतिथि: आंचलिक भाषा को हिंदी में समाहित करने वाले अनूठे लेखक

विचार

फणीश्वर नाथ रेणु की पुण्यतिथि: आंचलिक भाषा को हिंदी में समाहित करने वाले अनूठे लेखक

80 के हुए अशोक: इंसानियत और मोहब्बत को सर्वोपरि रखने वाले अशोक वाजपेयी के जन्मदिन पर साहित्यिक चर्चा

शख्सियत

80 के हुए अशोक: इंसानियत और मोहब्बत को सर्वोपरि रखने वाले अशोक वाजपेयी के जन्मदिन पर साहित्यिक चर्चा

जन्मदिवस विशेष: वर्ण और धर्म से परे हटकर पात्रों की मानवीयता से साक्षात्कार है शिवानी के भावबोध की विशिष्टता

शख्सियत

जन्मदिवस विशेष: वर्ण और धर्म से परे हटकर पात्रों की मानवीयता से साक्षात्कार है शिवानी के भावबोध की विशिष्टता

प्रतिगामी राजनीति की भेंट चढ़ा हिंदी-उर्दू का भाषा संसार, जनभाषा की ताकत का लाभ नहीं उठा पाया समाज

विचार

प्रतिगामी राजनीति की भेंट चढ़ा हिंदी-उर्दू का भाषा संसार, जनभाषा की ताकत का लाभ नहीं उठा पाया समाज

जन्मदिन विशेष: सौंदर्य के अप्रतिम कवि सुमित्रानंदन पंत, जिन्हें प्रकृति की संतान कहा जाता है

शख्सियत

जन्मदिन विशेष: सौंदर्य के अप्रतिम कवि सुमित्रानंदन पंत, जिन्हें प्रकृति की संतान कहा जाता है

जन्मशती विशेषः मानवीय करुणा और समरसता में भीगी फणीश्वरनाथ रेणु की चर्चित कहानी- ठेस

कहवा खाना

जन्मशती विशेषः मानवीय करुणा और समरसता में भीगी फणीश्वरनाथ रेणु की चर्चित कहानी- ठेस

जन्मशती विशेषः रेणु का लेखन अन्याय के खिलाफ खड़ा होने का संदेश है, जिसकी आज सबसे ज्यादा जरूरत है

कहवा खाना

जन्मशती विशेषः रेणु का लेखन अन्याय के खिलाफ खड़ा होने का संदेश है, जिसकी आज सबसे ज्यादा जरूरत है

जन्मशती विशेषः मेले का इतिहास जानने के लिए रेणु के साहित्य में ही लौटना होगा

कहवा खाना

जन्मशती विशेषः मेले का इतिहास जानने के लिए रेणु के साहित्य में ही लौटना होगा

कृष्ण बलदेव वैद: बिना खेमे और कबीले में बंधे एक कारवां  गुजर गया...

शख्सियत

कृष्ण बलदेव वैद: बिना खेमे और कबीले में बंधे एक कारवां गुजर गया...