किताबें

‘गंभीर विषय पर आसान भाषा और सहज शैली में लिखा साहित्य ही लोकप्रिय साहित्य है’

किताबें

‘गंभीर विषय पर आसान भाषा और सहज शैली में लिखा साहित्य ही लोकप्रिय साहित्य है’

फिल्मी पोस्टर के अतीत से लेकर वर्तमान तक की यात्रा का दस्तावेज़ है इकबाल रिज़वी की ‘पोस्टर बोलते हैं’

कुछ नया

फिल्मी पोस्टर के अतीत से लेकर वर्तमान तक की यात्रा का दस्तावेज़ है इकबाल रिज़वी की ‘पोस्टर बोलते हैं’

प्रेमचंद की कहानी ‘कफन’

किताबें

प्रेमचंद की कहानी ‘कफन’

गुजरात के बहाने हर सांप्रदायिक दंगे का सच दिखाती किताब, जिसे हर ‘भक्त’ को जरूर पढ़ना चाहिए

किताबें Kitabe

गुजरात के बहाने हर सांप्रदायिक दंगे का सच दिखाती किताब, जिसे हर ‘भक्त’ को जरूर पढ़ना चाहिए

साझी  संस्कृति और विरासत का खूबसूरत उदाहरण हैं भाषाएं, फर्क मिटाने के लिए अनुवाद को मिले बढ़ावा: किरन मनराल

देश

साझी संस्कृति और विरासत का खूबसूरत उदाहरण हैं भाषाएं, फर्क मिटाने के लिए अनुवाद को मिले बढ़ावा: किरन मनराल

विश्व पुस्तक दिवस: सफदर हाशमी की कविता ‘किताबें’

किताबें Kitabe

विश्व पुस्तक दिवस: सफदर हाशमी की कविता ‘किताबें’

पुस्तक समीक्षा: उपन्यास के रूप में निराश करती है ‘एक सच्ची झूठी गाथा’

किताबें

पुस्तक समीक्षा: उपन्यास के रूप में निराश करती है ‘एक सच्ची झूठी गाथा’

ईरान: सड़क पर किताब खरीदने के लिए लगी कतार कोई पुरानी तस्वीर नहीं है 

किताबें

ईरान: सड़क पर किताब खरीदने के लिए लगी कतार कोई पुरानी तस्वीर नहीं है 

2017: कुछ और बड़ा हो गया हिन्दी साहित्य का सन्नाटा

किताबें

2017: कुछ और बड़ा हो गया हिन्दी साहित्य का सन्नाटा

‘कमजोर आत्मा वाले समर्पण कर
देते हैं, लेकिन बाकी लोग मशाल को आगे ले चलते हैं’

किताबें Kitabe

‘कमजोर आत्मा वाले समर्पण कर देते हैं, लेकिन बाकी लोग मशाल को आगे ले चलते हैं’

आरएसएस प्रकाशन के खिलाफ शारजाह अंतर्राष्ट्रीय पुस्तक मेले में शिकायत दर्ज

किताबें

आरएसएस प्रकाशन के खिलाफ शारजाह अंतर्राष्ट्रीय पुस्तक मेले में शिकायत दर्ज

हमें उन लोगों को गहराई से सुनना चाहिए जो हमारे जैसे नहीं हैं: अरुण मायरा

किताबें

हमें उन लोगों को गहराई से सुनना चाहिए जो हमारे जैसे नहीं हैं: अरुण मायरा

चंपारण सत्याग्रह पर विशेष: ‘वह गांव-गांव, गली-गली किसानों के पास जाकर उनका दर्द सुनता है’

किताबें Kitabe

चंपारण सत्याग्रह पर विशेष: ‘वह गांव-गांव, गली-गली किसानों के पास जाकर उनका दर्द सुनता है’